पूर्व मेदिनीपुर जिले में अंफान से 6 की मौत, 800 राहत शिविर में रह रहे लोग, पश्चिम मेदिनीपुर जिले के दांतन इलाके में मचाई तबाही, दो की मौत


खड़गपुर। पूर्व व पश्चिम मेदिनीपुर जिले में कल आए आमफान तूफान का व्यापक असर देखने को मिला। इलाके में कई जगह पेड़ व बिजली के खंभे उखड़ गए जिससे विद्युत सेवा पूरी तरह बाधित हो गई साथ ही तूफान ने इलाके में कई मिट्टी के घरों को तहस-नहस कर दिया लोगों का आवास उनसे छिन गया जिससे गांव के लोग काफी आतंकित व डरे हुए हैं दोनों जिलों को मिलाकर कुल आठ लोगों के मारे जाने की खबर है। पूर्व मेदिनीपुर जिला प्रशासन के प्राथमिक अनुमान के अनुसार जिले मे कुल छह मौत हुई है जबकि 4008 वर्ग किमी इलाका प्रभावित हुआ है 22 लाख 70 हजार 397 लोग प्रभावित हुए हैं 2लाख 52 हजार 428 घर क्षतिग्रस्त हुआ है 1लाख 472 लोगों को 800 रिलीफ कैंप में रखा गया है सबसे ज्यादा प्रभाव दीघा में देखा गया। इधर पश्चिम मेदिनीपुर जिले के पिंग्ला थाना के दूजीपुर ब्लाक के राउरचक गांव के राबिन पूर्ति की अस्वाभाविक मौत हो गई पता चला है कि राबिन के घर में तूफान के दौरान पेड़ गिर गया था जिसका मंजर देखने के बाद हार्ट अटैक से उसकी मौत हो गई। जबकि मोहनपुर ब्लॉक के बागदा गांव के नौ कुमार पात्रा नामक किशोर की मौत हो  गई।


पश्चिम मेदिनीपुर जिला परिषद के  कृषि कर्माध्यक्ष रमा प्रसाद गिरी इलाके का जायजा लेने पहुंचे तो गांव वालों ने समस्याएं सुनाई व राहत के लिए गुहार लगाई। तूफान प्रभावित इलाके का मुआयना करने के बाद गिरि ने कहा कि यहां दांतन में लोगों को काफी नुकसान हुआ है जिसके भरपाई की बात प्रशासन के पास रखेंगे व  जिलाशासक, एसडीओ तथा बीडीओ को भी दांतन की स्थिति से अवगत कराएंगे। इधर पश्चिम मेदिनीपुर जिले के बेल्दा थाना के खाकुड़दा में राहत कैंप मे रह रहे लोगों का आरोप है कि प्रशासन की ओर से उनके खाने-पीने का कोई भी व्यवस्था लचर है। रात से भूखे रह रहे लोगों को सुबह 10 बजे के बाद पुलिस ने कुछ नाश्ते का सामान बिस्किट, मिक्सचर दिया लेकिन लोगों का आरोप है कि कम से कम छोटे बच्चों के खाने की समुचित व्यवस्था की जानी चाहिए। इधर झाड़ग्राम जिले के गोपीबल्लभपुर इलाके में धान की पकी हुई फसल के चौपट होने की खबर है।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post