खड़गपुर व हिजली में रिकार्ड ट्रेनों के आने से परेशान जिला प्रशासन, बिना स्वास्थय परीक्षण के भेजे जा रहे गंतव्यों की ओर, 14 दिनों की क्वारेंटाईन में भेजा जा रहा हैः एसडीओ


रघुनाथ प्रसाद साहू
खड़गपुर। खड़गपुर व हिजली में रिकार्ड ट्रेनों के आवागमन से परेशान है जिला प्रशासन जिसके कारण अब बिना स्वास्थय परीक्षण के श्रमिकों को उसके गंतव्यों में भेजा जा रहा है इधर स्वास्थय़ विभाग ने अस्पतालों को सेंपल लेने से रोक लगा देने के कारण 14 दिनों की क्वारेंटाईन में भेजा जा रहा है। ज्ञात हो कि श्रमिक स्पेशल ट्रेन के शुरु होने से अब तक कुल 64 ट्रेनें खड़गपुर व हिजली स्टेशन में आ चुकी है गुरुवार को ही लगभग डेढ़ दर्जन लंबी दूरी की श्रमिक स्पेशल ट्रेनें आई जिससे हजारों लोग उतरे। लंबी दूरी की ट्रेन लगातार आने के कारण सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन नहीं किया गया। इधर स्वास्थय विभाग अस्पतालों को सैंपल लेने से रोक लगा दी है जिसके कारण यात्रियों का नाम पता लिखकर क्वारेंटाइन में रहने का निर्देश दे दिया गया है। पता चला है कि अंफान आने के बाद राज्य फिलहाल बंगाल के श्रमिकों के लिए ट्रेन ना चलाए जाने की मांग की थी पर इस बीच सबस ज्यादा महाराष्ट्र से ट्रेनें खड़गपुर पहुंची इधर प्रवासी श्रमिकों के आने के बाद पूर्व व पश्चिम मेदिनीपुर सहित अऩ्य जिलों में कोरोना पाजिटिव रोगियों की बेतहाशा वृद्धि हुई है
जिससे प्रशासन चिंतित है। खड़गपुर के एसडीओ वैभव चौधरी का कहना है कि दिल्ली, महाराष्ट्र, एमपी, तमिलनाडु व गुजरात से आने वाले श्रमिकों को खड़गपुर कालेज व आईआईटी स्थित क्वारेंटाईन सेंटर में भेजा गया उन्होने बताया कि अविभक्त मेदिनीपुर के अलावा बांकुड़ा व पुरुलिया जिले के यात्री खड़गपुर में उतरे। प्रत्येक ट्रेन से 200-250 यात्री उतरे। उन्होने कहा कि महाराष्ट्र से कई ट्रेनें एक साथ छोड़ी गई है इसलिए फिलहाल वे लोग 24 घंटा सेवा दे रहे हैं। उन्होन कहा कि शुक्रवार से कई स्कुलों में क्वारेंटाईन सेंटर खोला जाएगा ताकि लोग घर के पास रह सके व उन्हें घर का खाना मिल सके। चौधरी ने बताया कि जो लाक्षणिक श्रमिक है उन्हीं का सैंपल लिया जा रहा है बाकि का नाम पता दर्ज कर संबंधित जिले को सौंपा जा रहा है। खड़गपुर महकमा अस्पताल के अधीक्षक कृष्णेंदु मुखर्जी का कहना है कि बीते दिनों के रिपोर्ट नहीं आने से बुधवार से सैंपल ना लेने का आदेश दिया गया है नया आदेश आने से सोमवार से सैंपल लिए जाने की उम्मीद है। उन्होने कहा कि खड़गपुर महकमा अस्पताल के लगभग एक हजार व मेदिनीपुर मेडिकल कालेज में 7-8 हजार लोगों के सैंपल का रिपोर्ट आना बाकी है।   


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post