तब प्रभु , अब पीयूष , क्या खड़गपुर वाले होंगे संतुष्ट !!

422
Advertisement
Advertisement
Advertisement

तारकेश कुमार ओझा , खड़गपुर : रेलनगरी कहे जाने वाले खड़गपुर के चुनाव में केंद्रीय रेल मंत्री की उपस्थिति का खास महत्व है । इसे समझते हुए अलग – अलग राजनीतिक दलों ने अलग – अलग काल खंडों में तत्कालीन रेल मंत्रियों से चुनाव प्रचार कराने की भरसक कोशिश की । राजद उम्मीदवार के पक्ष में माहौल तैयार करने को 2006 के चुनाव में तब के रेल मंत्री लालू यादव ने भी जम कर जलवा बिखेरा था ।

यह और बात है कि इसका कोई विशेष लाभ वाममोर्चा को नहीं मिल पाया था । भारतीय जनता पार्टी भी इस मामले में पीछे नहीं है । 2016 में हुए पिछले विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने अपने उम्मीदवार प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष के लिए तत्कालीन रेल मंत्री सुरेश प्रभु से चुनाव प्रचार कराया था ।

तब चुनाव प्रचार के बिल्कुल आखिरी दिन प्रभु ने गोलबाजार के रविन्द्र इंस्टीट्यूट में आयोजित एक सभा को संबोधित किया था । रेल शहर होने के नाते खड़गपुर को अपना मायका बताते हुए प्रभु ने कहा था कि यहां तो वो कभी आ सकते हैं । लेकिन चूंकि मौका चुनाव का है , इसलिए ज्यादा कुछ नहीं कहेंगे , न कोई आश्वासन ही देंगे । उनके वक्तव्य का अर्थ यही लगाया गया कि शहर की समस्याओं की उन्हें जानकारी है और समय आने पर वे इसे अवश्य पूरा करेंगे । कहना मुश्किल है कि रेल मंत्री के आश्वासन का कितना फायदा भाजपा को हुआ । क्योंकि चुनाव तो आखिरकार भाजपा ही जीती थी । लेकिन सच्चाई यही है कि रेल इलाके की समस्याओं को लेकर संबंधित क्षेत्र के लोगों की अभी भी ढेरों शिकायतें हैं , जिसका अहसास विभिन्न राजनीतिक दलों को है । मंगलवार को शहर पहुंचे रेल मंत्री पीयूष गोयल लोगों की नब्ज पकड़ने में किस हद तक सफल हुए हैं , इसका फैसला भी भविष्य ही करेगा ।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com