दक्षिण पूर्व रेलवे मजदूर संघ के पवन कुमार बने भारतीय रेलवे मजदूर संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष, भारतीय रेलवे मजदूर संघ का 20 वां अखिल भारतीय त्रैवार्षिक अधिवेशन संपन्न

487
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

खड़गपुर, भारतीय रेलवे मजदूर संघ का 20 वां अखिल भारतीय त्रैवार्षिक अधिवेशन 9 एवं 10 अप्रैल को चेन्नई में संपन्न हुआ। कार्यक्रम का उद्घाटन भारतीय मजदूर संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष हिरण्यमय पांडया ने किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि माननीय रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव थे। मुख्य वक्ता के रूप में बी सुरेन्द्रन उपस्थित थे। भारतीय रेलवे मजदूर संघ से संबंद्ध विभिन्न जोनों के यूनियनें इस कार्यक्रम में भागीदारी की। दक्षिण पूर्व रेलवे मजदूर संघ के विभिन्न मंडलों से पदाधिकारी भी इस कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। इस कार्यक्रम में दक्षिण पूर्व रेलवे मजदूर संघ केन्द्रीय पदाधिकारी यथा नवनिर्वाचित महामंत्री बलवंत सिंह, अध्यक्ष पवन कुमार, उपाध्यक्ष मनीष चंद्र झा, उपाध्यक्ष श्रवन कुमार, संगठन मंत्री पी. के. पात्रो, खजांची अभिषेक कुमार उपस्थित थे। साथ ही खड़गपुर कारखाना के कारखाना सचिव पी. के. कुंडु, संकेत एवं दूरसंचार शाखा के शाखा सचिव पी. श्रीनिवास तथा अन्य पदाधिकारीगण यथा छविलाल, रंजीत कुमार, संजय शुक्ला, रितेश कुमार मिश्रा, संजय शुक्ला, मुकेश कुमार, भवानी चंद्र गोप, रतन कुमार, विवेक पांडे आदि उपस्थित हुए।


अधिवेशन में विभिन्न मुद्दों जैसे रेलवे के निजीकरण/निगमीकरण पर रोक, नई पेंशन स्कीम को समाप्त कर पुरानी पेंशन स्कीम को लागू करना, बिना किसी सीलिंग के सभी को रात्रि भत्ता देना, संविदा कर्मियों का स्थायीकरण तथा न्यूनतम वेतन 18000 रु पर बोनस का निर्धारण आदि पर विचार किया गया।


माननीय रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ किसी आवश्यक कार्य से जुड़े होने के कारण कार्यक्रम में आभासी माध्यम से जुड़े। उन्होंने विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। उन्होंने अपने वक्तव्य में कहा कि रेलवे में निजीकरण/ निगमीकरण के बारे में अन्य यूनियनों एवं विपक्षी पार्टियों द्वारा भ्रामक व मिथ्या प्रचार किया जा रहा है। रेलवे में निजीकरण अथवा निगमीकरण नहीं किया जाएगा। रेलवे देश में विकसित नई तकनीकों का उपयोग कर आत्मनिर्भरता पर जोर दे रही है। वंदेभारत जैसी ट्रेन इसका जीता जागता उदाहरण है। ट्रेनों में संरक्षा हेतु कवच प्रणाली का प्रयोग किया जा रहा है। इस प्रणाली से दुर्घटना पर रोक लगेगी। सरकार नई पेंशन प्रणाली को समाप्त करने हेतु एक कमेटी गठित की है। इसके अलावा अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा हुई।
कार्यक्रम के अंत में पेरम्बूर के रेलवे कल्याण मंडप से इंटीग्रल कोच फैक्टरी तक एक विशाल रैली निकाली गई। जिसमें विभिन्न जोनों से उपस्थित लगभग हजार-डेढ़ हजार की संख्या में पदाधिकारीगण व कर्मचारीगण शामिल हुए।

अधिवेशन के दूसरे दिन भारतीय रेलवे मजदूर संघ के पदाधिकारियों का चुनाव हुआ। जिसमें सर्वसम्मति से पवन कुमार , अध्यक्ष एवम् मंगेश देशपांडे को सेक्रेटरी जनरल के रूप में चुना गया। पवन कुमार के अध्यक्ष के रूप में चुने जाने से दक्षिण पूर्व रेलवे मजदूर संघ के पदाधिकारियों में हर्षोल्लास फैल गया।

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com