खड़गपुर रेल मंडल के 64 युटीएस काउंटर के लिए खुला ओपेन टेंडर, स्टेशन टिकट बुकिंग एजेंट की होगी नियुक्ति  रिजर्वेशन काउंटर व एटीवीएम मशीन में पुराने सिस्टम रहेंगे लागू

593
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

      ✍ रघुनाथ प्रसाद साहू/9434243363
खड़गपुर. खड़गपुर रेल मंडल के 64 अनरिजर्वड टिकटिंग सिस्टम (युटीएस) काउंटर के लिए मंगाए गए ओपेन टेंडर  खोल दी गई है आवेदन की जांच हो रही है जल्द ही टेंडर आबंटित कर दिए जाएंगे। ज्ञात हो कि रेल युटीएस सिस्टम को लाइसेंस देकर निजी लोगों के माध्यम से चलाना चाहती है व फिलहाल कार्यरत बुकिंग क्लर्को को दूसरे कामों में लगाया जाएगा। जबकि पैसेंजर रिजर्वेशन सिस्टम (पीआरएस) रेल पहले की तरह खुद देखेगी स्टेशन में लगे आटोमेटिक वेंडिंग मशान (एटीवीएम) पहले की तरह फैसिलिटेटर (निजी) के माध्यम से चलता रहेगा।


ज्ञात हो कि टिकट बिक्री के आधार पर रेलवे के काउंटर कई श्रेणियों में विभाजित है जिसमें से एसजी-3 जिसमें 10 सालाना 10 करोड़ के कम बिक्री,  एनएसजी 4 10 से 20 करोड़ बिक्री, व एनएसजी 5 1 से 10 करोड़ एनएसजी 6 क करोड़ से कम बिक्री के कुल 64 स्टेशनों के लाइसेंस एक से तीन साल के लिए दिए जाएंगे। एसल जी- 3 कैटेरगरी में कुल 46 स्टेशनों के लिए लाइसेंस जारी होंगे जिसमें गिरिमैदान, तमलुक, हलदिया, आमता, कोलाघाट, टिकियापाड़ा शामिल है जबकि एनएसजी 6 में रुपसा, अमरदा रोड, एनएस 5 के 7 स्टेशनों में चाकुलिया, कांथी, हिजली, बेलदा, व एन एस 4 के 6 स्टेशनों में झाड़ग्राम, घाटशइला, दीघा, बारिपदा व मिदनापुर शामिल है।     लाइसेंस धारक को काउंटर या अन्य सुविधाएं रेल उपलब्ध कराएगी लाइसेंस धारक अतिरिक्त सहयोगी रख कर काउंटर चलाएंगे अगर किसी तरह की लापरवाही व अनियमितता की शिकायत होगी तो सीनियर डीसीएम को लाइसेंस निरस्तीकरण का अधिकार होगा। रेल श्रेणियों के आधार पर बिक्री पर कमीशन देगी जो कि टेंडर के लिए निकाल गए चार श्रेणियों के लिए अधिकतम 2 से 25 फीसदी तक है सबसे कम कमीशन पर आए बिडिंग को मिलेगा टेंडर। रेल सूत्रो के मुताबिक रेल देश भर में यूटीएस के लाइसेंसीकरण की प्रकिया लागू कर रही है।

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com