291
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

भुवनेश्वर. ओडिशा में लगातार बढ़ रहे कोविद-19 के मामलों को देखते हुए पुरी में एक जुलाई को निकलने वाली रथयात्रा के लिए फेस मॉस्क अनिवार्य कर दिया गया है. साथ ही कोरोना के लक्षण वाले भक्तों को रथयात्रा में शामिल नहीं होने की अपील की गयी है.
राज्य के स्वास्थ्य निदेशक विजय महापात्र ने कहा कि रथयात्रा के दौरान पुरी में एक बड़ी भीड़ की उम्मीद है, क्योंकि दो साल के अंतराल के बाद भक्तों को इसमें शामिल होने की अनुमति मिली है. इस बीच राज्य में कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ रहा है. इसलिए महाप्रभु श्री जगन्नाथ की रथयात्रा में शामिल लेने वाले सभी भक्तों के लिए मॉस्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है. साथ ही उन लोगों को सुझाव दिया जा रहा है कि जिनमें कोविद के लक्षण हैं, वे पुरी जाने के बजाय टेलीविजन पर रथयात्रा का सीधा प्रसारण देखें.
उन्होंने कहा कि रथयात्रा के लिए पुरी रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड और ग्रांड रोड पर स्वास्थ्य शिविर लगाये जायेंगें. कोविद के लक्षण वाले रोगी उपचार के लिए स्वास्थ्य शिविरों में जाकर इलाज करा सकते हैं. उन्होंने लोगों से कोविद संक्रमण के प्रसार की जांच करने के लिए अधिक सतर्क रहने का आग्रह किया. इस बीच एक जुलाई को होने वाली रथयात्रा के लिए तैयारियां जोरों पर हैं. इस संबंध में राज्य सरकार ने पुरी जिला प्रशासन को त्योहार के दौरान कोविद के प्रकोप से निपटने के लिए तैयार रहने का निर्देश दिया है.
स्वास्थ्य सेवाएं तैयार रखने के निर्देश
पुरी में आने वाले श्रद्धालुओं की संभावित भीड़ को देखते हुए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने जिलाधिकारी समर्थ वर्मा को कोविद केयर सेंटर, ऑक्सीजन सुविधाओं से युक्त बेड, आईसीयू और एचडीयू बेड तैयार रखने के निर्देश दिया है. इसके अलावा जिन लाभार्थियों को कोविद-19 टीकों की दूसरी और एहतियाती खुराक का टीका नहीं लगाया गया है, उन्हें पुरी के एक विशेष शिविर में टिके दिये जायेंगे.

राज्य में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 69 नये पाजिटिव मामले सामने आये हैं. इसमें नौ संक्रमित बच्चे भी शामिल हैं. यह जानकारी राज्य के सूचना व जनसंपर्क विभाग ने ट्वीट कर दी है. इसके साथ राज्य में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 1289328 हो गई है. कोरोना से स्वस्थ हुए मरीजों की संख्या बढ़कर 1279693 हो गई है. राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या 458 है. विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, इन नये मामलों में से 42 संगरोध से हैं, जबकि 27 स्थानीय संपर्क में आकर संक्रमित हुए हैं. आज संक्रमित पाये गये लोग कुल 10 जिले में हैं. बालेश्वर जिले में 5, बलांगीर जिले में 1, कटक जिले में 13, जगतसिंहपुर जिले में 1, जाजपुर जिले में 2, कलाहांडी जिले में 7, खुर्दा जिले में 24 संक्रमित मिले हैं. पुरी जिले में 2, संबलपुर जिले में 4, सुंदरगढ़ जिले में 8 स्टेट पूल से 6 संक्रमित मिले हैं. शेष 20 जिलों से एक भी संक्रमित नहीं मिला है.राज्य में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के साथ बढ़ते सक्रिय मामले राजधानी भुवनेश्वर में खतरे की घंटी बजाने लगे हैं. कोरोना संक्रमण के मामले में खुर्दा जिला राज्य में हॉटस्पॉट बना हुआ है, जबकि ओडिशा में कुल 50 फीसदी सक्रिय मामले राजधानी भुवनेश्वर में हैं. राज्य में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर निगम आयुक्त, जिलाधिकारियों और सीडीएमओ सतर्क कर दिया गया है.
राज्य सरकार के सूचना और जनसंपर्क विभाग की ओर से जारी किये गये आंकड़ों के अनुसार, राज्य में कुल 456 सक्रिय मामले हैं. 26 जून को भुवनेश्वर नगर निगम की ओर से जारी किये गये आंकड़ों के अनुसार राजधानी में ही कुल 244 सक्रिय मामले हैं.
बीते 24 घंटे के दौरान राज्य में जहां कुल 69 नये पाजिटिव मामले पाये गये हैं, वहीं खुर्दा जिले में अकेले 26 मामले दर्ज किये गये हैं.
राज्यभर में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर राज्य के स्वास्थ्य सेवा निदेशक विजय महापात्र ने सोमवार को बीमारी को फैलने से रोकने के उपायों के तहत नये दिशानिर्देश जारी किया. इसमें पुरी में रथयात्रा को लेकर नये निर्देश जारी किये गये हैं. उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग ने निगरानी और परीक्षण शुरू कर दिया है. जन स्वास्थ्य निदेशालय ने एहतियाती उपायों को बढ़ाने के लिए नगर निगम आयुक्तों, जिलाधिकारियों और सीडीएमओ सहित सभी स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों को भी सतर्क कर दिया है.

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com