मैं रेलगाड़ी हूं …!!

20
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

मैं  रेलगाड़ी हूं …!!
तारकेश कुमार ओझा
————-
बीमार हो या बेरोजगार , सब को मंजिल तक पहुंचाती हूं ,
मगर पत्थर – आग भी सबसे पहले पाती हूं ,
मैं रेलगाड़ी  हूं , सब कुछ सह जाती हूं
आक्रोश – आंदोलन का पहला शिकार मुझे ही बनना है ,
नियति इसे मान लिया
सब मेरे हैं , पर कोई नहीं मेरा
इस सच्चाई को जान लिया .
रोती हूं , कलपती हूं , पर कुछ कह नहीं पाती हूं ,
मैं रेलगाड़ी हूं , सब कुछ सह जाती हूं …!!

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com