पार्षद समर दोलुई ने साबित किया , इस घोर भ्रष्ट दुनिया में भी जीवन-मूल्य के कद्रदां जिंदा हैं, सब्जी बेच करते हैं गुजारा

387
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

पश्चिम मेदिनीपुर के चंद्रकोणा पौर-सभा के पार्षद सब्जी बेच जीवन यापन कर, आज के चरम अनैतिक काल में स्वच्छता की नजीर पेश किए हैं . चंद्रकोणा पौर-सभा वार्ड-9 के पार्षद हैं समर दोलुई , वे एमए पास है उनके घर में बुजुर्ग माता-पिता, पत्नि व दो सन्तान हैं . इससे पहले सब्जी का व्यवसाय उनके पिता लक्ष्मीकांत बाबू ही करते थे परंतु उम्र की लाचारी से अब संभव नही होता. अतः अब अपने परिवार के गुजारे के लिए समर खुद स्थानीय बाजार में सुबह जहां सब्जी बेचते हैं वहीं दिन में अपने पार्षद होने का दायित्व भी पूरा करते हैं . लोगों की समस्याएं सुनते एवं समाधान करने की कोशिश करते हैं . मौजूदा दौर में पार्षद बनते ही जहां लोग अनैतिकता की तरावट में फूल जाते हैं वहीं समर सच्चाई और सादगी की राह पर निरंतर श्रमसाध्य जीवन जी रहे हैं . वे 2022 में तृणमूल की ओर से पार्षद चुने गए थे. चंद्रकोणा के तृणमूल पार्षद समर को गलत मार्ग से विलासिता अर्जित करना कत्तई मंजूर नही . उनके इस ईमानदार छवि के पीछे की पीड़ा असह्य है . वे प्रतिदिन हर मौसम में घर से तड़के निकलते हैं और व्यवसाय के सारे स्रजाम व्यवस्थित कर बाजार पहुंचते हैं एवं सब्जी विक्रय करने में लग जाते हैं . लॉकडाउन के काल में उन्हें डिलीवरी बॉय से लेकर अन्य कई तरह का कार्य करना पडा ताकि गृहस्थी का गुजारा होता रहे . वे कई बार दिहाडी मजदूर के तौर पर भी कार्य करते हैं . वे कहते हैं- ” मुझे ईमानदारी की राह पर चलना पसंद है . फिलहाल बेशक मैं पार्षद हूं . भविष्य में जब पार्षद नही रहूंगा ? मैं रोजगार के लिए सब्जी बेचता हूं . मेरे लिए यह कोई नई बात नही .”
आज के समय में जब देश का प्रायः हर राज्य भ्रष्टाचार की कुकृत्य से घिनाया हुआ है . जब भ्रष्टाचारी हेंकड़ी दिखाने और कुतर्क का तूफान खडे़ करने करने से भी नही लजाते , वैसी स्थिति में पार्षद समर दोलुई का मूल्यबोध एक सुखद एहसास देता है . भविष्य में इंसानियत – शराफत के अस्तीत्व के प्रति आशान्वित करता है .

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com