खबरों की भीड़ में ….!!

252

पहले से जिंदा लाश की  तरह जीने वाले समाज के  गरीब तबके की  जिंदगी को कोरोना महामारी और लॉक डाउन की  विडंबना ने और मुश्किल बना दिया है . लेकिन घोर आश्चर्य कि खबरों की दुनिया से यही आम आदमी गायब है . इसी विसंगति पर पेश है  खांटी  खड़गपुरिया तारकेश कुमार ओझा  की चंद लाइनें ….

Advertisement
Advertisement

—————————-
खबरों की  भीड़ में ,
राजनेताओं का  रोग है .
अभिनेताओं के टवीट्स हैं .
अभिनेत्रियों का फरेब है .
खिलाड़ियों का  उमंग है
अमीरों की अमीरी हैं  .
कोरिया – चीन है
तो अमेरिका और पाकिस्तान भी है .
लेकिन इस भीड़ से गायब है वो आम आदमी
जो  चौराहे पर  हतप्रभ खड़ा है .
जो कोरोना से डरा हुआ तो  है लेकिन
जिसे चिंता वैक्सीन की  नहीं
यह जानने की  है ट्रेनें कब चलेंगी  ,
जो उसे उसकी मंजिल पर नहीं
तो कम से कम वहां पहुंचा दे
जहां उसे रोटी मिल सके .
खबरों की  भीड़ से
बिल्कुल ही गायब है .
अस्पतालों की  कतारों में  धक्के खाता
वो आम आदमी
जो सितारे भी बनाता है
और सरकार भी
  . . . . . . . . . .. . .. ..
तारकेश कुमार ओझा
..………………..

——————————————————–

Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com