अर्जुन हत्याकांड को लेकर भाजपा व टीएमसी के बीच  वाक युद्घ छिड़ा,गोलबाजार व खरीदा बाजार  शनिवार की शाम रहा बंद, पुलिस  मामले की जांच में जुटी, गश्ती जारी, तोड़फोड़

1215

✍ रघुनाथ प्रसाद साहू

Advertisement

खड़गपुर। चुनावी साल की शुरुआत हत्याकांड से हुई हो तो आखिर राजनेता मामले में एक दूसरे पर दोषारोपण से  कैसे चुप रहते।  अर्जुन सोनकर के शव का अंत्यपरीक्षण के बाद जहां शनिवार शाम उसका दाह संस्कार कर दिया गया वहीं भाजपा व टीएमसी के बीच  वाक युद्घ छिड़ गया ।इधर घटना को लेकर गोलबाजार व खरीदा बाजार  शनिवार की शाम बंद रहे वहीँ  पुलिस  मामले को लेकर मशक्कत व गश्ती करती रही गुस्साए लोगों ने गोलबाजार में तोड़फोड़ भी किया। टीएमसी के जिलाध्यक्ष अजित माइति ने अर्जुन को अपना कार्यकर्ता बताते हुए हत्या के लिए  भाजपा को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि भाजपा आने वाले चुनाव में अपनी हार को देखते हुए हिंसा का सहारा ले खड़गपुर का माहौल  बिगाड़ने की कोशिश कर रही है  पर सत्ताधारी दल होने के कारण वे लोग ऐसा नहीं होने देंगे व अंकुश लगाएंगे ।उन्होंने कहा कि टीएमसी अगर माकपा के हर्मदवाहिनी से मुकाबला कर सकती है तो भाजपा के गुंडों से क्यों नहीं उन्होने दिलीप का नाम ना लेते हुए राज्य को हिंसा मे झोंकने का आरोप लगाया।

टीएमसी के आरोपों से बिफरे भाजपा के प्रदेश नेता तुषार मुखर्जी ने कहा कि अजित  माइति को  खड़गपुर के संबंध में  ज्ञान नहीं  है  व उसके कार्यकर्ताओं को बेवजह फंसाने का प्रयास कर रही है उन्होंने  आरोप लगाया कि आपराधिक छवि वाले युवक अर्जुन  को पहले विधायक प्रदीप सरकार ने उपचुनाव में  अपनी चुनावी बैतरणी पार करने के लिए उपयोग कर छोड़ दिया जिसके कारण वह अब देबाशीष के समर्थक  बन  गया था। उन्होंने  दावा किया कि  पूछताछ  के लिए ले  गए भाजपा के वार्ड 15 के  शक्ति प्रमुख  कृष्णा व गेटबाजार के मनीलेंडर व दुकानदार एन राजेश को छुड़ा लाए हैं। अपने कार्यकर्ता को छुड़ाने के  लिए भाजपा ने खड़गपुर शहर थाना के समक्ष विरोध प्रदर्शन भी किया। ज्ञात हो कि अर्जुन पर राजेश पर गोलबाजार में गोली चलाने का आरोप था जिसमें राजेश बाल बाल बच गए थे। राजेश को पुलिस घटना की रात ही गेटबाजार से पूछताछ  के लिए ले गई थी। पता चला है कि एक महिला सहित लगभग पांच लोगों को पूछताछ किया गया है  हांलाकि पुलिस इस विषय में प्रतिक्रिया देने से बच रही है। अर्जुन  का सट्टा सहित जमीन व अन्य कारोबार से भी  जुड़ा  था इसलिए  सभी पहलुओं को जांच रही है मामला माफिया राज का है  या कुछ और।

ज्ञात हो कि अर्जुन के दो और भाई व एक बहन है अर्जुन अविवाहित  था।इधर अर्जुन उर्फ  भोलू के शव का अंत्यपरीक्षण के बाद जहां शनिवार शाम उसका स्थानीय मंदिर तालाब  शमशान घाट में दाह संस्कार कर दिया गया जिसमें बड़ी संख्या में लोग उमड़े। टीएमसी नेता प्रदीप, देबाशीष भाजपा नेता शैलेष शुक्ला, श्री राव व अन्य के शामिल होने की खबर  है।

इधर शहर भर में हत्याकांड चर्चा का विषय बना रहा।घटना को लेकर गोलबाजार व खरीदा बाजार  शनिवार की शाम बंद रहे जबकि लोग दहशत में शव ले जाते समय गुस्साए लोगों ने गोलबाजार में दो दुकानों में तोड़फोड़ भी किया। ज्ञात हो कि नववर्ष  कि संध्या  बदमांशों ने भोलू की गोली मार हत्या  कर दिया था जिसके बाद पुलिस मथुराकाठी  घटनास्थल सेैक कारतूस के खाली खोखे बरामद किया था।अर्जुन के पिता हेमा का कहना है कि शुक्रवार की दोपहर  पूजा करके आने के बाद बिना खाैचला गया था शाम में तारकी नामक युवक ने अर्जुन  के एक्सीडेंट की बात बताया तो भोलू का दोनो भाई जाकर देखा तो उसे दो गोली लगी लगी थी। हेमा का कहना है  कि किसने वारदात को अंजाम दिया यह पुलिस ही पता कर पाएगी वे कुछ नहीं कह सकते।

 

Advertisement

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com