मेहनतकश रो रहे ….!! तारकेश कुमार ओझा

326
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

कोरोना और लॉकडाउन के पश्चात परिस्थितियां कुछ यूं बनती जा रही है कि आदमी अपनी मूल स्वाभाविक प्रकृति के विपरीत घरों में नजरबंद सा होने को मजबूर है। इसी विडंबना पर पेश है खांटी खड़गपुरिया तारकेश कुमार ओझा की चंद लाइनें ….

मेहनतकश रो रहे ….!!
तारकेश कुमार ओझा
—————————-
घरों में रहना ही अब हो गया काम
दुनिया का दस्तूर कब बदल गया हे राम

आदमी तो आदमी जानवर भी भूखे सो रहे
निठल्लों का पता नहीं मेहनतकश रो रहे

ना एंबुलेंस की कांय – कांय
ना पुलिस गाडियों की उड़े धूल

बस्तियों में बरसे सुख – चैन
मंदिरों  में  श्रद्धा के फूल

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com