फायरिंग कांड की जांच को लेकर टीएमसी कार्यकर्ता व पुलिस के बीच झड़प से टीएमसी कार्यकर्ता घायल, पुलिस पर हमले के खिलाफ होगा मामला दर्ज, पुलिस की जांच का तरीका गलत ठहराया टीएमसी ने

316
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

✍रघुनाथ प्रसाद साहू 

खड़गपुर। फायरिंग कांड की जांच को लेकर टीएमसी कार्यकर्ता व पुलिस के बीच शुक्रवार को झड़प हो गया जिससे टीएमसी कार्यकर्ता सुनील सोनकर घायल हो गया उसे चांदमारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इधर पुलिस पर हमले के खिलाफ मामला दर्ज करने जा रही है पुलिस जबकि पुलिस की जांच का तरीका गलत ठहराया टीएमसी नेता तपन सेनगुप्ता ने जबकि घटना को लेकर उत्तेजना व्याप्त है।

ज्ञात हो कि शुक्रवार की सुबह कैश वैन लूट को लेकर हुए फायरिंग मामले में एएसआई मकराम बाबू के नेतृत्व में पुलिस टीम टीएमसी कार्यकर्ता व आईएऩटीटीयूसी नेता सुनील सोनकर उर्फ बच्चा के घर उसके बड़े भाई संतोष की खोज में देबलपुर स्थित उसके आवास में दबिश दी तभी सुनील व उसके परिजन पुलिसकर्मी से भिड़ गए।

सुनील का आरोप है कि उसकी गर्भवती पत्नी को पुलिस ने धक्का दिया तथा उस पर व उसके परिजन पर हमला किया गया जिसके बाद स्थानीय लोगों ने भी आरोपी पुलिसकर्मी पर हमला कर दिया। जिससे इलाके में तनाव व्याप्त हो गया बाद में खड़गपुर शहर थाना प्रभारी विश्वरंजन बनर्जी व टीएमसी नेता तपन सेन गुप्ता घटनास्थल में पहुंचे। टीएमसी नेता तपन सेनगुप्ता का आरोप है कि पुलिस जांच के लिए किसी को बुला सकती है पर पुलिस का रवैया उचित नहीं था जिसके कारण लोग भड़क गए व पुलिस पर हमला हुआ।

Advertisement
Advertisement

पश्चिम मेदिनीपुर जिले के एसपी दीनेश कुमार का कहना है कि पुलिस की जांच में बाधा दी गई पुलिस पर नशा का आरोप गलत है। खड़गपुर शहर थाना प्रभारी विश्वरंजन बनर्जी का कहना है कि फायरिंग कांड में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।

पुलिस के काम में बाधा डालने व पुलिस पर हमला करने के लिए मामला दर्ज कर कार्ऱवाई की जाएगी। इधर आईएनटीटीयूसी के जिलाध्यक्ष व टीएमसी के वरीय नेता निर्मल घोष ने घटना को दुखद बताते हुए कहा कि पार्टी पुलिस के काम में दखलंदाजी नहीं करेगी।

TMC cadre injured in clash between TMC worker and police over investigation of firing incident
A case will be registered against the attack on the police, TMC questioned poice attitude
Kharagpur. A clash broke out between the TMC worker and the police over the investigation of the firing incident on Friday evening resulting TMC worker Sunil Sonkar  @ bachcha injured, he has been admitted to Chandmari Hospital. police to register a case against the attack on the police.  while TMC leader Tapan Sengupta blamed the method of investigation of the policet. It is to be known that in the firing case regarding cash van robbery on Friday morning, the police team led by ASI Makram Babu raided the house of TMC worker and INTTUC leader Sunil Sonkar alias Bachcha at his residence in Debalpur in search of his elder brother Santosh. And his family clashed with the policeman. Sunil alleges that his pregnant wife was pushed by the police and she and her family were attacked after which the local people also attacked the accused policeman. Due to which tension prevailed in the area, later Kharagpur Town in-charge Biswaranjan Banerjee and TMC leader Tapan Sen Gupta reached on spot. TMC leader Tapan Sengupta alleges that the police can call someone for investigation, but the attitude of the police was not proper, due to which people got angried and the police was attacked. Paschim Medinipur district’s SP Dinesh Kumar says that the allegation of intoxication on the police is wrong. Biswaranjan Banerjee said that no arrest has been made in the firing incident. Action will be taken by registering a case for obstructing and attacking the police. INTTUC District President and TMC’s senior leader Nirmal Ghosh described the incident as sad and said that the party will not interfere in the work of the police, but injustice will not be allowed to the workers.

[email protected]

9434243363

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com