गुरुवार को बारिश थमने व धूप खिलने से लोगों ने ली राहत की सांस

179
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

खड़गपुर। बीते  दो दिनों की लगातार बारिश के बाद गुरुवार को बारिश थमने व धूप खिलने से लोगों ने राहत की सांस ली है ज्ञात हो कि बीते दो दिनों में हुई बारिश ने एक बार फिर पश्चिम मेदिनीपुर जिले के लोगों का जीवन अस्त व्यस्त कर दिया था । लगातार हो रही बारिश के कारण नदी पर बने कई बांघ टूटने से जिले के कई गांव बाढ़ की चपेट में आ गए। दासपुर, घाटाल, सबंग, पिंगला व डेबरा में हालात ज्यादा खराब है जहां निचले इलाकों में बाढ़ का पानी पुरी तरह फैल गया है व लोगों का सामान्य जीवन जीना मुश्किल हो गया है। हालात का जायजा लेने पहुंचे राज्य के जलसंपदा मंत्री मानस रंजन भुईंया ने कहा कि उन्होंने पश्चिम मेदिनीपुर जिले की ऐसी हालत 12 साल बाद दोबारा देखी है।

Advertisement
Advertisement

बारिश के कारण लगभग 10 से ज्यादा बांध टूट गए है। इधर खड़गपुर व मेदिनीपुर शहरों का भी हाल लगभग एक जैसा ही है। पिछले तीन महीने के भीतर तिसरी बार हुई भारी बारिश ने शहर के कई वार्ड के निचले इलाकों को डूबा दिया है। पानी लोगों के घरों में घुस गया है। खड़गपुर स्टेशन परिसर में भी पानी घुटनों से ऊपर बहा। कुल मिलाकर सवाल शहर की निकासी व्यवस्था पर उठाए जा रहे है। भाजपा वाले ड्रेनेज सिस्टम के लिए नगरपालिका को दोष दे रहे है तो वहीं तृणमूल भाजपा विधायक पर शहर में कोई काम न करने का आरोप लगा रही है। कुछ भी हो लेकिन इधर सरकारों की एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप के बीच आम जनता लाचारी का जीवन जीने को मजबूर है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com