हिजली के घने जंगल में अकेले रह रहे युवक से पुलिसकर रही पूछताछ, माओवादी नेता की तलाश में जुटी झारखंड पुलिस 

289
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

खड़गपुर वन विभाग की शिकायत पर खड़गपुर ग्रामीण थाना की पुलिस  हिजली के घने वन के बीच शनिवार दोपहर केशव हेम्ब्रम को डिटेन किया . आरोप है वह कुछ दिनों से एक अस्थाई मड़ई बनाकर सघन वन में रह रहा था . वन दफ्तर सूचना पाकर मौका-मुआयना की और मड़ई की जांच की जिसमे दैनिक आवश्यकता की चीजें सहित लगभग 1500 के आसपास साड़ियां व एक सेक्स  टाय मिली .

बहरहाल वन दफ्तर एवं जन साधारण व्यक्ति के गहन वन के मध्य बसेरा बनाने को लेकर शंसयग्रस्त है एवं माज़रा कयास के परे जान पड़ रहा है . व्यक्ति को जिरह कर सब कुछ साफ करने की कोशिश में जुटी है पुलिस।

माओवादी नेता की तलाश में जुटी झारखंड पुलिस 

पश्चिम मेदिनीपुर जिले के सदर विधानसभा अंचल के काशिजोडा के करमसोल में झाडखंड राज्य पुलिस माओवादी नेता मदन महतो की खोज में पश्चिम बंगाल के उसके घर आई थी . उस पर झारखण्ड राज्य में कई जानलेवा कांड में संलिप्त होने का अभियोग है एवं उस पर दंड विधान की कई धाराओं में केस दर्ज है अतः रूटिन पड़ताल के सिलसिले में झारखण्ड पुलिस का एक दल माओवादी नेता मदन महतो के मूल निवास पर आई और परिजनों एवं ग्राम वासियों से जरुरी पूछताछ की साथ ही ग्राम में माओवादी नेता मदन महतो के विषय एक पोस्टर चस्पा कर गई जिसमें एक ई-मेल आईडी एवं एक मोबाईल नं. दिया गया है और मदन महतो से संबंधित जानकारी पुलिस से साझा करने की अपील की गई है .

मालूम हो मदन महतो माओवादियों की संगत में 15-16 वर्ष की आयु में करीब 20-22 वर्ष पहले ही घर त्याग चुका है और घर से व परिजनों से उसका इधर कोई संपर्क भी नही है .यह पास -पडोस के लोगों का कहना है .

अखिल गिरि के राष्ट्रपति पर अपमानजनक शब्दों का प्रयोग करने का चहुँ ओर  विरोध

तृणमूल विधायक व राज्य मंत्री अखिल गिरी नंदीग्राम के दलीय कार्यक्रम में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के नाम पर व्यंग्य करते हुए , उनके रंग-रुप की खिल्ली उड़ाई .माकपा नेता तापस सिंहा इस मुद्दे पर एतराज जताते हुए कहा:” संविधान के सर्वोच्‍च पद पर आसीन मर्यादित व्यक्तित्व महामहिम राष्ट्रपति का अमर्यादित टिप्पणी कर अपमान किया जाना न सिर्फ पूरे देश का अपमान है , बल्कि पूरे 140 करोड़ देशवासियों का अपमान है . साथ ही महिला समाज का और आदिवासी समाज का भी अपमान है . हैरानी कि बात यह है कि तृणमूल की महिला कल्याण मंत्री शशि पांजा की मौजूदगी में पूरा समूह इस कुरुचिकर मंतव्य पर मज़े लेकर ठहाके ले रही थी .” बहरहाल इस मुद्दे पर देश भर में एक प्रतिवादी आलोड़न चल पड़ी है . चारो तरह से हर सियासी दल जहां तृणमूल का एवं मंत्री अखिल गिरी की निंदा के सात-साथ अविलंब गिरफ्तारी की मांग कर रहा है वहीं तृणमूल मंत्री अखिल के इस शर्मनाक कृत्य से किनारा करती नज़र आ रही है .

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com