“फ्रेट स्टॉक रखरखाव” और “कोच रखरखाव” विषय पर जीएम ने किया पुस्तक विमोचन, रेल से जुड़े लोगों के लिए उपयोगी पुस्तक

190
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

GM/SER RELEASES BOOKS ON

“FREIGHT STOCK MAINTENANCE” AND “COACH MAINTENANCE”

 

Kolkata, 31st December, 2022:

Indian Railways is the backbone of the country’s logistics sector and carry more than 1.2 Billion tonnes of freight traffic every year over a network of 68000 kms. South Eastern Railway is contributing significantly for Freight loading target of Indian Railways. SER has taken several important initiatives to increase rolling stock reliability and to increase mobility and efficiency by unlocking the untapped performance potential. For instance, SER has modified existing BOXNHL wagons to BOXNHL25T wagons to achieve higher throughput. This will help railways to carry an additional 535 Ton freight consignment in each BOXNHL25T rake. A total of 130 number of BOXNHL 25T Close circuit rakes were formed out of existing fleet of BOXNHL wagons till September’ 21. With a view to make more wagons available for loading to transporters, repair and overhauling capacity have been increased. Other initiatives include introduction of premium examination for steel rakes, twinning of Freight depot for CC Rake maintenance, digitalization of freight stock asset maintenance value chain, etc. As a result, the maintenance pattern and maintenance requirements have changed considerably. Accordingly, it has become necessary to adopt knowledge management techniques for repairs and maintenance of wagons. South Eastern Railway has therefore brought out a useful book on maintenance instruction guideline and reference of safety and other maintenance parameters for open line attention. In addition, Mechanical department of  South Eastern Railway has taken initiative to issue useful books on maintenance instruction guideline and reference of safety and other maintenance parameters for open line attention of coaching stocks (LHB & ICF coaches) for guidance of field staff, supervisors and officers for ensuring maintenance attention as per recommended guidelines. These books have been compiled with the keen interest and guidance by Shri P.K.Mandal, Principal Chief Mechanical Engineer, SER.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

The books were released by Ms. Archana Joshi, General Manager, South Eastern Railway. General Manager said that these books will be immensely helpful to staff, Supervisors and officers of open line, carrying out maintenance and operation of wagons and coaches as well as maximize the utilization of rolling stock.

 

 

“फ्रेट स्टॉक रखरखाव” और “कोच रखरखाव” विषय पर

जीएम ने किया पुस्तक का विमोचन

कोलकाता, 31 दिसंबर, 2022:

भारतीय रेलवे देश के लॉजिस्टिक्स क्षेत्र की रीढ़ है और 68000 किलोमीटर के नेटवर्क पर हर साल 1.2 बिलियन टन से अधिक माल ढुलाई करती है। दक्षिण पूर्व रेलवे भारतीय रेलवे के माल लदान लक्ष्य के लिए महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है। एसईआर ने रोलिंग स्टॉक की विश्वसनीयता बढ़ाने और अप्रयुक्त प्रदर्शन क्षमता को अनलॉक करके गतिशीलता और दक्षता बढ़ाने के लिए कई महत्वपूर्ण पहलें की हैं। उदाहरण के लिए, SER ने उच्च थ्रुपुट प्राप्त करने के लिए मौजूदा BOXNHL वैगनों को BOXNHL25T वैगनों में संशोधित किया है। इससे रेलवे को प्रत्येक BOXNHL25T रेक में अतिरिक्त 535 टन माल ढुलाई करने में मदद मिलेगी। सितंबर 21 तक BOXNHL वैगनों के मौजूदा बेड़े में से कुल 130 BOXNHL 25T क्लोज सर्किट रेक बनाए गए थे। ट्रांसपोर्टरों को लोड करने के लिए अधिक वैगन उपलब्ध कराने के उद्देश्य से, मरम्मत और ओवरहालिंग क्षमता में वृद्धि की गई है। अन्य पहलों में स्टील रेक के लिए प्रीमियम परीक्षण की शुरुआत, सीसी रेक के रखरखाव के लिए फ्रेट डिपो का ट्विनिंग, फ्रेट स्टॉक एसेट मेंटेनेंस वैल्यू चेन का डिजिटलीकरण आदि शामिल हैं। इसके परिणामस्वरूप, रखरखाव पैटर्न और रखरखाव आवश्यकताओं में काफी बदलाव आया है। तदनुसार, वैगनों की मरम्मत और रखरखाव के लिए ज्ञान प्रबंधन तकनीकों को अपनाना आवश्यक हो गया है। इसलिए दक्षिण पूर्व रेलवे ने ओपन लाइन पर ध्यान देने के लिए रखरखाव निर्देश दिशानिर्देश और सुरक्षा और अन्य रखरखाव मापदंडों के संदर्भ में एक उपयोगी पुस्तक प्रकाशित की है। इसके अलावा, दक्षिण पूर्व रेलवे के यांत्रिक विभाग ने फील्ड स्टाफ, पर्यवेक्षकों और अधिकारियों के मार्गदर्शन के लिए कोचिंग स्टॉक (एलएचबी और आईसीएफ कोच) की ओपन लाइन पर ध्यान देने के लिए रखरखाव निर्देश दिशानिर्देश और सुरक्षा के संदर्भ और अन्य रखरखाव मापदंडों पर उपयोगी पुस्तकें जारी करने की पहल की है। अनुशंसित दिशानिर्देशों के अनुसार रखरखाव ध्यान सुनिश्चित करने के लिए। इन पुस्तकों का संकलन श्री पी.के. मंडल, प्रधान मुख्य यांत्रिक इंजीनियर, द.पू.रे द्वारा गहन रुचि और मार्गदर्शन के साथ किया गया है।

पुस्तक का विमोचन दक्षिण पूर्व रेलवे की महाप्रबंधक सुश्री अर्चना जोशी ने किया। महाप्रबंधक ने कहा कि ये पुस्तकें वैगनों और कोचों के रखरखाव और संचालन के साथ-साथ रोलिंग स्टॉक के उपयोग को अधिकतम करने वाले ओपन लाइन के कर्मचारियों, पर्यवेक्षकों और अधिकारियों के लिए अत्यधिक सहायक होंगी।

 

 

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com