खड़गपुर स्टेशन में रेल ट्रैक में गिर घायल हुए गेटबाजार के मंटू की कोलकाता में मौत, कलाईकुंडा में रंग मिस्त्री की अस्वाभाविक मौत 

482
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

खड़गपुर, खड़गपुर स्टेशन में बीते सोमवार को रेल ट्रैक में गिर घायल हुए गेटबाजार के मंटू की कोलकाता में मौत हो गई. गुरुवार को खड़गपुर उसका दाह संस्कार किया गया जिसमें गेट बाजार के दुकानदार शामिल हुए। ज्ञात हो कि गेटबाजार के समीप रहने वाले व डिश लाईन का काम करने वाले मंटू दास नामक 32 वर्षीय युवक इस्पात एक्सप्रेस से टाटा जाते वक्त रेल ट्रैक में गिर गया था.  आरपीएफ के अनुसार प्लेटफार्म संख्या 1 ट्रेन आई व चल दी जब ट्रेन तीन नंबर से गुजर रही थी तभी दौड़ कर चढ़ने का प्रयास के क्रम में मंटू अनियंत्रित हो रेल ट्रैक में गिर गया

Click link

https://youtube.com/shorts/B73IqpiIbTk?feature=share

हांलाकि चक्के की चपेट में तो नहीं आया पर बुरी तरह घायल हो गया उसके सिर में चोट लगी व लहूलूहान मंटू को बचाने के लिए ट्रेन की जंजीर यात्रियों ने खींची जिसके बाद उसे खड़गपुर रेल अस्पताल  ले जाया गया जहां प्राथमिक उपचार के बाद कोलकाता के पीजी ले जाया गया।

जहां इलाज के दौरान मंटू की मंगलवार की देर रात मौत हो गई बुधवार को कोलकाता में अंत्यपरीक्षण कराया गया व आज उसका दाह संस्कार किया गया। पता चला है कि मंटू के परिजनों का गेटबाजार में जूते चप्पल की दुकान है।  

सदमे में परिवार

मंटू के छोटे भाई टिंकू का कहना है कि उनलोगों को यह विश्वास नहीं हो रहा है कि ट्रेन में चढ़ते समय हादसा हुआ उसकी मांग है कि हादसा कैसे हुई इसकी जांच होनी चाहिए। टिंकू का कहना है कि आशंका है कि किसी ने मंटू को धक्का दे दिया जिससे उक्त हादसा हुआ। उसका कहना है कि मंटू के दो दोसत भी ट्रेन से टाटा जा रहे थे व दोस्तों ने ही जंजीर खींची थी लेकिन मंटू व दोनों दोस्त अलग अलग गेट से कोच में किए थे। टिंकू का कहना है कि मंटू को वे लोग बेहतर इलाज के लिए पीजी ले गए थे लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। टिंकू ने कोलकाता में भी बेहतर चिकित्सा ना होने का आरोप लगाया। ज्ञात हो कि गेटबाजार के रहने वाले मंटू तीन भाईयों में सबसे बड़ा था जबकि टिंकू व एक अन्य निजी कंपनी में होम डिलीवरी का काम करता है जबकि पिता व चाचा जूते चप्पल की दुकान चलाते हैं। घटना से इलाके में शोक व्याप्त है व पूरा परिवार सदमे में हैं।  

रंग मिस्त्री की अस्वाभाविक मौत 

खड़गपुर कलाईलकुंडा के रहने वाले प्रकाश घोड़ुई (58) नामक सिविलियन की घर में रंग करते समय अचानक तबियत बिगड़ने पर उसे एयर फोर्स के अस्पताल में ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया बाद में कलाईकुंडा पुलिस प्रकाश के शव को बरामद कर अंत्यपरीक्षण कराया। इधर सबंग के सिभा (43) व दांतन के बिमल मुर्मु(48) ने फांसा लगा आत्महत्या कर ली।  

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com