देश की सांस्कृतिक एकता को जोड़ने में सक्षम हिंदी: डॉ विद्युत सामंत, प्राचार्य खड़गपुर कॉलेज

294
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

खड़गपुर: खड़गपुर कॉलेज के हिन्दी-विभाग में आज हिंदी दिवस अत्यंत उत्साह पूर्वक मनाया गया। इस अवसर पर एक विद्यार्थी-संगोष्ठी भी हुई, जिसका विषय था: ‘हिंदी की दशा एवं दिशा।’ इसके अलावा कुछ विद्यार्थियों ने स्वरचित कविता-पाठ एवं काव्य-आवृत्ति भी की।


कार्यक्रम की शुरूआत कॉलेज के प्राचार्य डा. विद्युत सामंत के उद्बोधन वक्तव्य से हुई। हिंदी को देश की सामासिक संस्कृति के लिए अत्यंत प्रयोजनीय भाषा बताते हुए उन्होंने विद्यार्थियों को उनके कर्तव्यों से अवगत कराया। अध्यक्षीय भाषण देते हुए विभाग के अध्यक्ष डा. पंकज साहा ने हिंदी की दशा एवं दिशा पर बीज वक्तव्य दिया।

हिंदी की प्राण-शक्ति के बारे बताते हुए उन्होंने कहा कि हिंदी एक ऐसा दीया है, जिसमें बहुत जान है, जिसे देख सारा विश्व हैरान है। विभाग के प्राध्यापक डा. संजय पासवान ने कहा कि हिंदी हमारी राष्ट्रीय अस्मिता एवं गौरव की भाषा है। विभाग के प्राध्यापक डा. प्रकाश कुमार अग्रवाल ने कहा कि जब-तक लोग नि: स्वार्थ भाव से हिंदी के प्रति पूर्ण समर्पण का संकल्प नहीं लेंगे, तब-तक हिंदी अपने पूर्ण अधिकारों को प्राप्त नहीं कर पाएगी।
पंचम सेमेस्टर के छात्र मो. निसार अहमद रजा ने हिंदी की
वर्तमान दशा एवं उसके समक्ष उपस्थित चुनौतियों पर प्रकाश डाला। संचयिता बेरा एवं प्रदीप सिंह ने भी हिंदी की दशा एवं दिशा पर अपना वक्तव्य प्रस्तुत किया। पंचम सेमेस्टर की नेहा यादव, अदिति शर्मा, पम्मी कुमारी शर्मा, इंदु कुमारी शर्मा; दि्वतीय सेमेस्टर की अमृता यादव; प्रथम
सेमेस्टर की आरजू खातून, भूमिका नायक ने काव्य-पाठ किया। पंचम सेमेस्टर के अर्जुन साकरी ने गीत प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का संचालन संचयिता बेरा ने एवं धन्यवाद-ज्ञापन डा. संजय पासवान ने किया।

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com