आईआईटी रूड़की डेवलपमेंट फाउंडेशन (आईआईटीआरडीएफ) एवं कात्यायिनी पेपर मिल्स प्राइवेट लिमिटेड ने कागज प्रौद्योगिकी एवं उन्नत पैकेजिंग का विकास विभाग में कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए किया समझौता

1189
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

Roorkee, 27th October, 2023: Indian Institute of Technology Roorkee (IIT Roorkee) has announced an instrumental partnership with Katyayini Paper Mills Private Limited, for the establishment of a comprehensive Skill Development Training Program at the Department of Paper Technology, IIT Roorkee, Saharanpur Campus. The collaboration also marks the development of an Advanced Packaging Research Laboratory with a pioneering focus on ‘Food Loss and Waste Prevention Strategies via Packaging from Farm to Fork’.

This groundbreaking initiative signifies a significant leap in the arena of skill development and sustainable packaging solutions, facilitated by the generous CSR grant provided by Katyayini Paper Mills. The Skill Development Training Program is designed to empower science graduates from rural and remote areas, equipping them with essential skills and expertise in paper testing and effluent testing. The successful completion of the program will culminate in the award of participation certificates, potentially opening doors for employment opportunities in nearby industries.

Memorandums of Understanding (MoUs) have already been established with two prominent companies: Shah Paper Mills Ltd. in Vapi, Gujarat, and Satia Industries Ltd. – Satia Paper Mills in Muktsar, Punjab.

 

The Skill Development Program and the Advanced Packaging Research Laboratory are significant contributions to IIT Roorkee’s commitment to fostering sustainable development and equipping the workforce with essential skills and expertise. The partnership exemplifies the shared vision of IITRDF and Katyayini Paper Mills to drive positive social impact and contribute to the sustainable development of the region and the nation.

This is a Corporate Social Responsibility (CSR) initiative of the Katyayini Paper Mills P. Ltd. as delineated in the Memorandum of Understanding (MoU). MoU signing event held at IIT Roorkee was graced by the presence of Mr. Rajesh Agarwal (Managing Director, Katyayini Paper Mills P. Ltd.), Mrs. Deepika Agarwal (Director, Katyayini Paper Mills P. Ltd.), Mr. Digansh Agarwal (Director, Katyayini Paper Mills P. Ltd.), Mr. Vikas Rastogi (President, Katyayini Paper Mills P. Ltd.) and Board of Directors IITRDF – Prof. K.K.Pant (Director, IIT Roorkee), Prof. R.D. Garg (DORA), Prof. Deepak Khare (Dean F&P), Prof. Dharm Dutt (HOD, Department of Paper Technology), Prof. Millie Pant (HOD, Department of Applied Mathematics and Scientific Computing), and Mr. Vaibhav Sharma (F&A Manager, IITRDF).

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Prof. K. K. Pant, Director, IIT Roorkee, said, ‘’ IITRDF’s role is to facilitate the Institute’s quest for excellence by bridging the gap between the Institute and its benefactors. The collaboration with Katyayini Paper Mills P. Ltd. signifies yet another significant stride in this direction. We aspire for the partnership between IITRDF and Katyayini Paper Mills P. Ltd. to adhere to the highest international standards of collaboration between academic institutions and industries.’’

 

Mr. Rajesh Agarwal, MD, Katyayini Paper Mills P. Ltd., expressed, “Our proactive measures to minimize carbon emissions are in alignment with the global objectives of Corporate Social Responsibility. We eagerly anticipate working closely with IITRDF to explore new collaborative opportunities and enhance our partnership further. The dedication displayed by Katyayini Paper Mills underlines our steadfast commitment to sustainability and a profound regard for the environment.”

 

Prof. R.D. Garg, DORA & MD, IITRDF, said, “This significant MoU signing event has paved the way for fostering a strategic partnership between IITR Development Foundation and Katyayini Paper Mills Private Limited. The inaugural collaboration holds a special place in the journey of IIT Roorkee Development Foundation (IITRDF). Our primary objective at IITRDF is to mobilize resources to support the growth trajectory and advancement of scientific and engineering innovation at IIT Roorkee.”

 

Prof. Dharm Dutt, HoD, Department of Paper Technology, IIT Roorkee, Saharanpur, said, “The signing of this significant MoU has set the stage for a strong collaboration between IITR Development Foundation and Katyayini Paper Mills Private Limited. The Department of Paper Technology remains dedicated to pioneering research in the realm of Sustainability through this Project, focusing on the development of Paper packaging and skill enhancement of students. This will lead to the exploration of more conducive approaches to improve youth employability and minimize the carbon footprint for current and future generations.”

 

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रूड़की डेवलपमेंट फाउंडेशन (आईआईटीआरडीएफ) एवं कात्यायिनी पेपर मिल्स प्राइवेट लिमिटेड ने आईआईटी रूड़की, सहारनपुर, कैंपस के कागज प्रौद्योगिकी एवं उन्नत पैकेजिंग का विकास विभाग में कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

 

रुड़की, 27 October, 2023: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रूड़की (आईआईटी रूड़की) ने आईआईटी रूड़की, सहारनपुर परिसर के कागज़ प्रौद्योगिकी विभाग में एक व्यापक कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम की स्थापना के लिए कात्यायिनी पेपर मिल्स प्राइवेट लिमिटेड के साथ एक महत्वपूर्ण साझेदारी की घोषणा की है। यह सहयोग ‘फार्म से फोर्क तक पैकेजिंग के माध्यम से खाद्य हानि व अपशिष्ट रोकथाम रणनीतियों’ पर ध्यान केन्द्रित करने के साथ एक उन्नत पैकेजिंग अनुसंधान प्रयोगशाला के विकास को भी चिह्नित करता है।

 

 

 

दो प्रमुख कंपनियों के साथ समझौता ज्ञापन (एमओयू) पहले ही स्थापित किए जा चुके हैं: वापी, गुजरात मेंa शाह पेपर मिल्स लिमिटेड, और पंजाब के मुक्तसर में सैटिया इंडस्ट्रीज लिमिटेड – सैटिया पेपर मिल्स।

 

 

यह अभूतपूर्व पहल कौशल विकास एवं टिकाऊ पैकेजिंग समाधान के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण उछाल का प्रतीक है, जो कात्यायिनी पेपर मिल्स द्वारा प्रदान किए गए सीएसआर अनुदान द्वारा सुगम है। कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम ग्रामीण एवं दूरदराज के क्षेत्रों के विज्ञान स्नातकों को सशक्त बनाने, उन्हें कागज परीक्षण एवं अपशिष्ट परीक्षण में आवश्यक कौशल और विशेषज्ञता से लैस करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। कार्यक्रम के सफल समापन से भागीदारी प्रमाणपत्र प्रदान किए जाएंगे, जिससे संभावित रूप से आस-पास के उद्योगों में रोजगार के अवसर खुलेंगे।

 

 

कौशल विकास कार्यक्रम एवं उन्नत पैकेजिंग अनुसंधान प्रयोगशाला सतत विकास को बढ़ावा देने और कार्यबल को आवश्यक कौशल व विशेषज्ञता से लैस करने की भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रूड़की की प्रतिबद्धता में महत्वपूर्ण योगदान हैं। यह साझेदारी सकारात्मक सामाजिक प्रभाव डालने और क्षेत्र एवं राष्ट्र के सतत विकास में योगदान देने के लिए आईआईटीआरडीएफ एवं कात्यायिनी पेपर मिल्स की साझा दृष्टि का उदाहरण देती है।

यह कात्यायिनी पेपर मिल्स प्राइवेट लिमिटेड की एक कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (सीएसआर) पहल है, जैसा कि समझौता ज्ञापन (एमओयू) में दर्शाया गया है। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रूड़की में आयोजित एमओयू हस्ताक्षर कार्यक्रम में श्री राजेश अग्रवाल (प्रबंध निदेशक, कात्यायिनी पेपर मिल्स पी लिमिटेड), श्रीमती दीपिका अग्रवाल (निदेशक, कात्यायिनी पेपर मिल्स पी लिमिटेड), श्री दिगांश अग्रवाल (निदेशक) , कात्यायिनी पेपर मिल्स प्राइवेट लिमिटेड), श्री विकास रस्तोगी (अध्यक्ष, कात्यायिनी पेपर मिल्स प्राइवेट लिमिटेड), निदेशक मंडल आईआईटीआरडीएफ – प्रोफेसर के के पंत (निदेशक, आईआईटी रूड़की), प्रोफेसर आरडी गर्ग (डोरा), प्रोफेसर दीपक खरे (कुलशासक एफ एंड पी) ), प्रोफेसर धर्म दत्त (विभागाध्यक्ष, कागज़ प्रौद्योगिकी विभाग), प्रोफेसर मिली पंत (विभागाध्यक्ष, अनुप्रयुक्त गणित एवं वैज्ञानिक कंप्यूटिंग विभाग), व श्री वैभव शर्मा (एफ एंड ए मैनेजर, आईआईटीआरडीएफ) की उपस्थिती रही।

 

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रूड़की के निदेशक प्रोफेसर केके पंत ने कहा, ”आईआईटीआरडीएफ की भूमिका, संस्थान एवं उसके लाभार्थियों के बीच की खाई को पाटकर संस्थान की उत्कृष्टता की खोज को सुविधाजनक बनाना है। कात्यायिनी पेपर मिल्स प्राइवेट लिमिटेड के साथ सहयोग इस दिशा में एक और महत्वपूर्ण प्रगति का प्रतीक है। हम शैक्षणिक संस्थानों और उद्योगों के बीच सहयोग के उच्चतम अंतरराष्ट्रीय मानकों का पालन करने के लिए आईआईटीआरडीएफ और कात्यायिनी पेपर मिल्स पी लिमिटेड के बीच साझेदारी की आकांक्षा रखते हैं।”

कात्यायिनी पेपर मिल्स प्राइवेट लिमिटेड के एमडी, श्री राजेश अग्रवाल ने कहा, “कार्बन उत्सर्जन को कम करने के हमारे सक्रिय उपाय कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी के वैश्विक उद्देश्यों के अनुरूप हैं। हम नए सहयोगी अवसरों का पता लगाने एवं अपनी साझेदारी को और बढ़ाने के लिए आईआईटीआरडीएफ के साथ मिलकर काम करने की उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रहे हैं। कात्यायिनी पेपर मिल्स द्वारा प्रदर्शित समर्पण स्थिरता के प्रति हमारी दृढ़ प्रतिबद्धता और पर्यावरण के प्रति गहन सम्मान को रेखांकित करता है।”

प्रोफेसर आर.डी. गर्ग, डोरा एवं एमडी, आईआईटीआरडीएफ, ने कहा, “इस महत्वपूर्ण एमओयू हस्ताक्षर कार्यक्रम ने आईआईटीआर डेवलपमेंट फाउंडेशन एवं कात्यायिनी पेपर मिल्स प्राइवेट लिमिटेड के बीच रणनीतिक साझेदारी को बढ़ावा देने का मार्ग प्रशस्त किया है। आईआईटी रूड़की विकास फाउंडेशन (आईआईटीआरडीएफ) की यात्रा में उद्घाटन सहयोग एक विशेष स्थान रखता है। आईआईटीआरडीएफ में हमारा प्राथमिक उद्देश्य आईआईटी रूड़की में वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग नवाचार के विकास पथ व उन्नति का समर्थन करने के लिए संसाधन जुटाना है।

प्रोफेसर धर्म दत्त, विभागाध्यक्ष, कागज़ प्रौद्योगिकी विभाग, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रूड़की, सहारनपुर ने कहा, “इस महत्वपूर्ण समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर ने आईआईटीआर डेवलपमेंट फाउंडेशन व कात्यायिनी पेपर मिल्स प्राइवेट लिमिटेड के बीच एक सशक्त सहयोग के लिए मंच तैयार किया है। कागज़ प्रौद्योगिकी विभाग इस परियोजना के माध्यम से स्थिरता के क्षेत्र में अग्रणी अनुसंधान के लिए समर्पित है, जो पेपर पैकेजिंग के विकास और छात्रों के कौशल वृद्धि पर ध्यान केंद्रित करता है। इससे युवाओं की रोजगार क्षमता में सुधार और वर्तमान एवं  भविष्य की पीढ़ियों के लिए कार्बन पदचिह्न को कम करने के लिए अधिक अनुकूल दृष्टिकोण की खोज को बढ़ावा मिलेगा।”

 

 

 

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com