विरोध के कारण खड़गपुर नगरपालिका बोर्ड बैठक में शामिल नहीं हुए वाइसचेयरमैन मेरे खिलाफ साजिश हुई, नहीं मिला था मौलवियों सेः शेख हनीफ

198
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

खड़गपुर। पार्षदों के विरोध के कारण खड़गपुर नगरपालिका के बोर्ड बैठक में शामिल नहीं हुए उपपौरपिता शेख हनीफ। विरोध कर रहे पार्षदों में कोरोना आतंक साफ दिखा इधर उपपौरपिता शेख हनीफ का कहना है कि मेरे खिलाफ साजिश हुई है वे इंडोनेशिया से आए मौलवियों से नहीं मिले थे। जानकारी के मुताबिक शुक्रवार की शाम चार बजे राशन कार्ड, कोरोना जागरुकता शिविर जैसे मुद्दे को लेकर खड़गपुर नगरपालिका में बोर्ड बैठक बुलाई गई थी उक्त बैठक में खड़गपुर के एसडोओ वैभव चौधरी, महकमा खाद्य विभाग के अधिकारीगण, पौरपिता प्रदीप सरकार व पार्षदगण उपस्थित थे पर उपपौरपिता शेख हनीफ भी बैठक में शामिल होने आए थे पर क्वारेंटाइन जैसे मुद्दे को लेकर शेख हनीफ को बैठक में शामिल होने को लेकर पार्षद विरोध करने लगे पर हनीफ बैठक में शामिल होने को लेकर अड़े थे कई पार्षदों का कहना था कि हनीफ के बैठक में शामिल होने से वे लोग बैठक का बहिष्कार करेंगे आखिरकार एसडीओ की सलाह पर हनीफ ने खुद को बैठक से अलग कर लिया बैठक डेढ़ घंटे साढ़े पांच बजे तक टली उसके बावजूद शेख हनीफ को नगरपालिका परिसर मे देखा गया। इस संबंध में उपपौरपिता शेख हनीफ का कहना है कि उसके खिलाफ साजिश की गई है इंडोनेशियाई मौलवी बीते 20 दिनों से हमारे देश में घूम रहे हैं खड़गपुर आए मौलवियों की जांच भी की गई उनलोगों में कोरोना के लक्षण नहीं दिखाई दिए इसके बावजूद उसे निशाना बनाया जा रहा है जबकि वे मौलवियों को पहचानते तक नहीं ना ही वह मिले हैं उन्होने इसे पांचबेड़िया के खिलाफ साजिश बताते हुए कहा कि ठीक है मुझे जाने नहीं देगें तो वे इलाके में ही रहकर काम करेंगे यह पूछे जाने पर कि क्या प्रशासन या स्वास्थय विभाग ने उसे क्वारेंटाईन में जाने की सलाह दी है उन्होने उलटा सवाल दागा मैं भला क्वारेंटाइन में क्यों जाऊं फिर प्रशासन को तो पूरे पांचबेड़िया इलाके को ही सील कर देना चाहिए।

इस संबंध में खड़गपुर नगरपालिका के चेयरमैन से संपर्क करने की कोशिश की गई पर संपर्क ना हो सका जबकि कांग्रेस पार्षद मधु कामी का कहना है कि टीएमसी के पार्षदों ने ही पहले क्वारेंटाईन में जाने को लेकर विरोध किया तब हम लोगो को पता चला इधर इस संबंध में टीएमसी पार्षद देबाशीष चौधरी ने टिप्पणी करने से इंकार कर दिया। भाजपा पार्षध अनुश्री बेहरा का कहना है कि घटना घटी है पर देर से बैठक में जाने के कारण वे विस्तृत टिप्पणी नहीं कर सकती। ज्ञात हो कि दिल्ली के जमात में शामिल हुए मौलवी खड़गपुर के तीन मस्जिदों में गए थे। आखिरकार सतकुई में मौलवियों के मिलने के बाद 7 इंडोनेशियाई मौलवी, खड़गपुर के मस्जिदों के इमामों सहित कई लोगों को सतकुई स्थित अस्थाई क्वारेंटाईन होम में भेजा गया है। जिला प्रशासन की ओर से आज पांच लोगों को क्वारेंटाईन में भेजा गया जिसमें से पांचबेड़िया के एक ही परिवार के चार लोग व कुचलाचटी की एक महिला है पता चला है कि ये लोग दूसरे राज्य से बाहर आए हैं।     

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com