खिलखिलाता रहे खड़गपुर…!!

615
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

कोरोना काल में भी शारदीय नवरात्र के उत्सव ने खांटी खड़गपुरिया तारकेश कुमार ओझा में भर
दिया अपूर्व उत्साह तो फूट पड़ी नई कविता …
————————–
खिलखिलाता रहे खड़गपुर…!

Advertisement
Advertisement

ढाक भी वही सौगात भी वही

पर वो बात कहां जो बचपन में थी

ठेले भी वही , मेले भी वही
मगर वो बात कहां जो बचपन में थी
ऊंचे से और ऊंचे तो
भव्य से और भव्य होते गए
मां दुर्गा के पूजा पंडाल
लेकिन परिक्रमा में वो बात कहां जो बचपन में थी1
हर कदम पर सजा है बाजार
मगर वो रौनक कहां जो बचपन में थी।
नए कपड़े तो हैं अब भी मगर
पहनने को वो सुख कहां
जो बचपन में थी
भरी जेब के साथ पंडालों में घूमा बहुत
लेकिन वो खुशी मिली नहीं
जो खाली जेब में भी बचपन में थी
समय के साथ बदल गया बहुत कुछ
न बदला तो मां दुर्गा का ममतामय रूप
माता भवानी से है बस चाह इतनी
बुलंद रहे भारत
खिलखिलाता रहे खड़गपुर …

तारकेश कुमार ओझा
——————————
——————————————————————
———-

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com