जंगल महल में कोरोना : अगले दो महीने महत्वपूर्ण क्यों मान रहे डॉक्टर ??

801
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

तारकेश कुमार ओझा , खड़गपुर : रेलनगरी खड़गपुर कहें या समूचे जंगल महल की बात करें । पिछले साल मार्च के बाद से जो परिदृश्य बनना शुरू हुआ था , परिस्थितियां तेजी से वैसी ही नजर आ रही है ।

लॉकडाउन भले न लगा हो लेकिन कोरोना को लेकर आतंक और आपाधापी बिल्कुल वैसी ही है । तिस पर वैक्सीन की चिंता जीवन संध्या में पहुंच चुके बुजुर्गों को भी चैन लेने नहीं दे रही । क्या गांव , क्या शहर । हर तरफ भय और अनिश्चितता पसरी है । बाजारों में भीड़ है , लेकिन दुकानदारों के चेहरों पर हंसी नहीं दिखती । कहते हैं – ” कोरोना और लॉकडाउन के डर से लोग खरीदारी से बच रहे हैं , पैसे बचाने की खातिर । सेल मार्केट में भारी बिक्री न हो तो मनमाफिक मुनाफा सपना हो जाता है ” । सड़कों और बाजारों में भीड़ देख प्रशासनिक अधिकारी और डॉक्टर परेशान हैं । संक्रमण बढ़ने के डर से । लेकिन लोग कहते हैं उनकी भी तो मजबूरी है । घर बैठने से जिंदगी थोड़े न चलेगी । जन साधारण को तो निकलना ही पड़ेगा । कोरोना संक्रमण के लिहाज से विशेषग्य अगले दो महीने महत्वपूर्ण मान रहे हैं । क्योंकि इस दौरान तेज धूप , गर्मी और उमस शीर्ष पर होता है । ऐसे में संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाता है । ऐसे में लोग भारी असमंजस में हैं कि इस काल की नार्मल सर्दी , खांसी व बुखार आदि की समस्या को कोरोना के खतरों से कैसे अलग करें ।

क्योंकि पिछले साल का अनुभव बताता है कि ऐसे लक्षण नजर आते ही डॉक्टर्स मरीज को देखने से इन्कार कर उन्हें सरकारी अस्पताल जाने को कहते रहे । इस बार भी ऐसा होने पर जहां अस्पतालों पर दबाव बढ़ेगा , वहीं लोगों की मुश्किलें भी । क्योंकि कड़वी सच्चाई यही है कि बात वैक्सीन की हो या टेस्टिंग की , आम आदमी के लिए दोनो हासिल करना किसी चुनौती से कम नहीं मानी जा सकती ।

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com