बंटा मुरली ने टीएमसी प्रत्याशी के समर्थकों पर धमकाने का लगाया आरोप, बंटा मुरली के खिलाफ टीएमसी ने नहीं की थी कार्रवाई

405
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

✍रघुनाथ प्रसाद साहू/9434243363

खड़गपुर। टीएमसी के खिलाफ वार्ड चुनाव लड़ने वाले15 के कांग्रेस प्रत्याशी बंटा मुरली के खिलाफ भले ही टीएमसी ने कार्रवाई नहीं की हो लेकिन बंटा मुरली ने टीएमसी प्रत्याशी के समर्थकों पर धमकाने का आरोप लगा राजनीतिक सरगर्मी तेज कर दी है। ज्ञात हो कि बुधवार को टीएमसी ने पार्टी से बगावत कर पार्टी प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे पांच प्रत्याशियों को पार्टी से निष्कासित कर दिया है जबकि बंटा मुरली के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। बंटा मुरली का कहना है कि वे टीएमसी के रेल इलाके अध्यक्ष रहे हैं लेकिन पार्टी ने उन्हें प्रत्याशी नहीं बनाया इसलिए वह अपने पुराने पार्टी कांग्रेस की टिकट से चुनाव मैदान में है। इधर गुरुवार को बंटा मुरली ने टीएमसी के प्रत्याशी अंजना साखरे समर्थकों पर उन्हें धमकी देने का आरोप लगाया है। ज्ञात हो कि अंजना साखरे जेल में बंद बी रामबाबू के घनिष्ठ माने जाते रहे हैं सन 15 में रामबाबू ने अंजना के खिलाफ प्रचार किया था फिलहाल वे जेल में है।

बंटा मुरली का आरोप है कि अंजना समर्थक उसके कार्यकर्ताओं को धमका रहे हैं बदमाश लोग उन्हें जान से मारने की धमकी दे रहे हैं इसलिए वे अपने बेटा बेटी के साथ ही चुनाव प्रचार कर रहे हैं। उनका कहना है कि लोगों का उन पर भरोसा है इधर निवर्तमान पार्षद अंजना ने आरोप को झुठलाते हुए कहा कि बंटा मुरली के पास कोई नहीं है इसलिए झूठे आरोप लगा रहे हैं। दल विरोधी कार्य करने के बावजूद टीएमसी की ओर से उसके खिलाफ कोई कार्ऱवाई नहीं किए जाने पर वह कहती है फिलहाल वे चुनाव प्रचार में वयस्त है। इस संबंध में टीएमसी के जिला सभापति सुजय हाजरा भी मीटिंग में व्यस्तता का हवाला देते हैं हांलाकि कांग्रेस से टीएमसी में आए नेता ने नाम ना बताने की शर्त पर कहा कि टीएमसी संगठन का रेल व नगरपालिका में विभाजन नहीं हुआ इसलिए बंटा मुरली के रेल इलाके के अध्यक्ष रहने की बात को तो वे इंकार करते हैं हांलाकि पार्टी में बंटा मुरली के रहने की बात स्वीकारते हैं। बंटा मुरली के खिलाफ कार्ऱवाई किस कारण से नहीं हुई इस बात पर आश्चर्य जताते हुए कहते हैं चुनाव कमेटि के प्रभारी ही इस पर प्रकाश डाल सकते हैं। इधर वार्ड पांच के निर्दलीय प्रत्याशी फिदा हुसैन का भी कहना है कि टीएम, टिकट की दौड़ में वह जरुर था व टिकट नहीं मिलने पर चुनाव मैदान में उतरा हांलाकि टीएमसी के सदस्य होने से इंकार करते हुए कहते हैं वह टीएमसी के समर्थक जरुर रहे हैं इधर वार्ड पांच के टीएमसी प्रत्याशी मो आरिफ का कहना है कि फिदा खुद को टीएमसी के बागी निर्दलीय बता मतदाताओं को भरमा रहे हैं।

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com