आईआईटी खड़गपुर के विद्यार्थी कौस्तव ने जीता 9वां नेशनल चेस चैंपियनशिप, इटली में होने वाले वर्ल्ड एम्योचर चैंपियनशिप में लेंगे हिस्सा, आनलाइन पोर्टलों के माध्यम से खुद को निखारा

501
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

रघुनाथ प्रसाद साहू/9434243363

खड़गपुर। आईआईटी खड़गपुर के विद्यार्थी कौस्तव चक्रवर्ती ने जयपुर में आयोजित 9वां नेशनल चेस चैंपियनशिप जीत खड़गपुर का नाम रोशन किया। ज्ञात हो कि जयपुर में जयपुर चेस एकेडेमी व राजस्थान चेस एकेडेमी की ओर से 3 मई से 7 मई तक 9वां नेशनल एम्योचोर चैंपियनशिप आयोजित किया था जिसमें देश भर के 26 राज्यों के प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। कौस्तव अंडर 2300 कैटेगरी के विजेता बने। इससे पहले कौस्तव सन 19 में मुंबई मेयर कप के विजेता बने थे।

कौस्तव अब इटली में नवंबर में होने वाले वर्ल्ड एम्योचर चैंपियनशिप की तैयारी करने को इच्छुक है। कौस्तव के लिए यहां तक का सफर आसान ना था कोलकाता के बालिगंज में जन्मे कौस्तव के पिता के के चक्रवर्ती रेलवे के रिटायर्ड अधिकारी है जबकि मां रीता हाउसवाइफ। कौस्तव जब कक्षा नौं के छात्र थे तब उसकी रुचि शतरंज के प्रति जगी व कोलकाता के सरबजीत अधिकारी उसके कोच बने पर पढ़ाई के कारण जब वे बारहवीं में थे उसे चेस से अलग होना पड़ा जिसके बाद आईआईटी के मेकानिकल इंजीनियरिंग के डुअल डिग्री में उसे पढ़ने का मौका मिला व वे पढ़ाई के लिए सन 17 में खड़गपुर आ गए पर शतरंज के रुचि के कारण उसने आनलाइन पोर्टल Lichess व chess.com देख खुद प्रैक्टिस की व खुद को निखारा। खेल के साथ पढ़ाई में अच्छे होने के कारण कौस्तव आईआईटी मेकानिकल इंजीनियरिंग में सेकेंड रैंक में थे व 19 में इंटर आईआईटी स्पोर्ट्स मीट के बेस्ट प्लेयर भी बने। कौस्तव सन 19 में मुंबई मेयर कप जीता व फिर नेशनल एम्योचोर जिसमें कुल 9 राउंड में उसे 8 अंक मिले।इसी साल पासआउट हुए कौस्तव को आईटीसी कंपनी में नौकरी मिल गई है । कौस्तव इस बीच खड़गपुर की संस्था युवा चेस एकेडेमी के कोच भी बने युवा चेस एकेडेमी के निदेशक हीरक बोस ने कौस्तव को जीत की बधाई देते हुए कहा कि इससे युवाओं को प्रेरणा मिलेगी।

Advertisement
Advertisement
Advertisement

To be a great player one has to sacrifice his education life.”/ “Only those who start chess in very early ages, excel in chess.”/ “Stay away from Blitz chess and online chess to develop your potentiality “/ “You need a good coach and have to participate in lots of tournaments to gather experience that will help game’s growth “.

Koustav Chakraborty is a name whose life just discarded, all of you these as prejudice.

Koustav Chakraborty, a just passed out student from one of the most eminent educational institutions, IIT Kharagpur has learnt Chess under the coaching of Sarbajit Adhikary of Kolkata around class 9..! Afterwards for the preparations of IIT entrance, he got totally detached from Chess. Then he refocused on his chess carrier. He maintained and balanced perfectly his IITian studies and chess preparations. He cannot afford much time for playing tournaments but he prepared himself just on basis of playing in Lichess and chess.com. He don’t go for any coach but he continues his own preparations just on the basis of internet videos and analyzing his on 3+2 games on lichess or chess.com.
His toil makes him Mumbai Mayor’s Cup 2019 Group B champ..!!


Chessbase India taking Koustav interview praised his opening preparations as “Grandmaster level..!!”
After long 3 years, in 2022, Koustav comes back with his full preparations and just storms the 9th National Ameture as Champion..!!
8 points out of 9 rounds..!!!
Koustav victory in greater sense is a victory of chess, a victory of whole chess community because his victory teaches us a great lesson that is..

Thousands of excuses will be there, but if you are determined do something great then there will be numerous way to do that..!!!
He represented Paschim Medinipur officially for 5 years. He will represent India in World Amateur in Italy.

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com