साहित्य संवर्धन का संकल्प…….

229
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

साहित्य संवर्धन का संकल्प लेकर वर्ष २०१८ से ख़याल सहित्यिक संस्था की स्थापना हिंदी साहित्य के संवर्धन का उद्देश्य को लेकर की गई थी ।परिणाम स्वरूप हम लोग अहिंदी भाषी प्रान्तों में हिंदी का परचम फहराने में कामयाब हुए।


इस वर्ष संस्था *ख़याल परिवार* के तत्वावधान में *ख़याल अनुगूँज साहित्यिक महायज्ञ* का आयोजन किया ।पाँच चरणों में सम्पन्न होने वाले इस महायज्ञ में पूर्णाहुति हेतु छत्तरपुर की पावन भूमि को चुना गया जिसमें देश के विभिन्न प्रान्तों से चुने गए लगभग ५१कलमवीरों के साथ साथ गणमान्य वरिष्ठ साहित्यकारों की उपस्थिति रही। दिनाँक ७ जनवरी २०२४ को महाश्रवण भवन अध्यात्म साधना केंद्र नई दिल्ली में सम्पन्न इस सम्मान समारोह सह काव्य संगम की अध्यक्षता आदरणीय डॉ सुरेश वशिष्ठ जी प्रांतीय अध्यक्ष संस्कार भारती सदस्य केंद्रीय फ़िल्म प्रमाणन बोर्ड ने की। छत्तरपुर वार्ड की पार्षद आदरणीया पिंकी त्यागी राष्ट्रीय कवयत्री डॉ सीता सागर प्रसिद्ध इतिहासकार डॉ सद्दीक़ अहमद मेव नारायणी साहित्य अकादमी की अध्यक्ष डॉ पुष्पा सिंह बिसेन जी आदि की उपस्थिति ने कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई।

 

कार्यक्रम का शुभारंभ वैदिक मंत्रों के साथ दीप प्रज्वलन और माता शारदे की पुष्पार्चन के साथ हुआ
इस अवसर पर ख़्याल अनुगूँज साहित्यिक परिवार की स्मारिका सुनीता जागेटिया जी के काव्य संग्रह मन की बीथिकाएँ प्रवीणा त्रिवेदी प्रज्ञा के उपन्यास सुजाता अंशी कमल के गीत संग्रह …..चलें गांव की ओर साथियों…..का लोकार्पण किया गया।

 

इस प्रथम सोपान की स्मारिका को समूह के वरिष्ठ साहित्यकार स्वर्गीय कार्यानंद पाठक जी को समर्पित कर समूह के प्रति उनके अपरिमित स्नेह का स्मरण किया गया।
महायज्ञ के राष्ट्रीय संयोजक लोकार श्री अरुण त्रिवेदी अनुपम अध्यक्ष श्री संजीव शुक्ल सचिन जी ने सभी अतिथियों और दूर दूर से पधारे कवि कवयत्रियों का स्वागत किया।कार्यक्रम का कुशल संचालन श्रीनगर से पधारी कोकिल कंठी कवयत्री अंशी कमल ने किया। ख़याल अनुगूँज के संगठन सचिव श्री काजू निषाद जी संयोजन सचिव दीप्ति मित्तल जी,रामा श्रीनिवास ‘राज’ जी के अथक परिश्रम से कार्यक्रम में सत्रह प्रान्तों से कवि कवियत्रियों ने अपने काव्यपाठ से सभी का मन मोह लिया। पयस्विनी दल को सर्वश्रेष्ठ ख़याल शिरोमणि दल स्रोतस्विनी को ख़याल भूषण दल निर्झरिणी को ख़याल रत्न की उपाधि से सम्मानित किया गया। चार विधाओं में व्यक्तिगत प्रस्तुति के आधार पर क्रमशः प्रथम द्वितीय और तृतीय पुरस्कार प्रदान किये गए । विजेता प्रतिभागी रहे बैंगलोर से पधारे आदरणीय नरेंद्र सिंह त्यागी जी बोरीवली मुम्बई से पधारे आदरणीय कुबेर मिश्र जी लखनऊ से पधारे डॉ अर्श लखनवी जी देहरादून से पधारी ममता जोशी सुमन किमोठी युध्दवीर सिंह बिष्ट गाजियाबाद से पधारी स्मिता चौहान नोएडा से पधारी अनीता सिंह अनु डॉ शिवानी चंद्रा हरियाणा से अशोक डोरिया जी को सम्मानित किया गया।

 

 

अंत में समूह की उपाध्यक्ष आदरणीय प्रवीणा त्रिवेदी प्रज्ञा ने सभी को प्रतिभागिता प्रमाणपत्र और स्मृति चिन्ह देकर सभी रचनाकारों का अभिनंदन किया।
राष्ट्रगान के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।

Advertisement
Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com