BMS Foundation Day  celebrated by DPRMS, Kharagpur

134
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Kharagpur, Kharagpur Workshop and Open line wings of Dakshin Purva Railway Mazdoor Sangh (DPRMS) , Kharagpur celebrated foundation day of Bhartiya Mazdoor Sangh (BMS) in their respective offices. Manish Chandra jha Workshop Dy. Co-ordinator,  BMS claimed that BMS is one of the largest non-political trade union of the world.He said  It was founded by Late Dattopant Thengadi on 23rd July,1955. This day has significant for Indian history too because on this day two freedom fighters Bal Gangadhar Tilak and Chandrasekhar Azad was born. These two freedom fighters had great impact on Indian freedom struggle.


In this occasion,  BMS flag hoisted and laddu was distributed among workers. Working President Dilip Kumar Pal, Division Co-ordinator, T. H. Rao, Workshop Co-ordinator P. K. Kundu , Workshop Dy. Co-ordinator Jayanto Kumar, Koushik sarkar, P. K. Patro, Balwant Singh, Om Prakash Yadav, Santosh Singh, KrishnaMurty, Ratnakar Sahu, Manoj Kumar Yadav, Srinu, Jalaj Kumar Gupta, Sekhar, Sambhu Saran Singh and many others union office bearers were present in the function.
A webinar also organised by Bhartiya Railway Mazdoor Singh. Thousands of Railway workers and office bearers of different zonal union were connected through Zoom App and Face book.

दक्षिण पूर्व रेलवे मजदूर संघ ने भारतीय मजदूर संघ के मूलमंत्रों- त्याग, तपस्या और बलिदान का प्रण कर भारतीय मजदूर संघ का स्थापना दिवस मनाया
देश के सबसे बड़े श्रमिक संगठन भारतीय मजदूर संघ का स्थापना दिवस 23 जुलाई को सम्पूर्ण देश में मनाया गया। इस अवसर पर भारतीय रेलवे मजदूर संघ ने एक वेबिनार का आयोजन किया था। इस अवसर पर देश के विभिन्न हिस्सों से भारतीय रेलवे मजदूर संघ के अंतर्गत आने वाले रेलवे के सभी जोनों के संगठनों के कर्मचारीगण हजारों की संख्या में जूम एप और फेसबुक लाइव के माध्यम से वेबिनार कार्यक्रम से जुड़े । ज्ञात हो कि भारतीय मजदूर संघ की स्थापना 23 जुलाई,1955 को हुआ था। 23 जुलाई को ही भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दो वीर सपूतों बाल गंगाधर तिलक और चंद्रशेखर आजाद का जन्म हुआ था। इन दो हुतात्मा के जन्म दिवस को ध्यान में रखते हुए स्वर्गीय दत्तोपंत ठेंगड़ी जी ने एक पूर्ण गैर राजनीतिक संगठन की स्थापना की, जिसका मूल उदेश्य मजदूरों की हितों की रक्षा के साथ साथ देश की हितों की भी चिंता करना। उनकी टैग लाइन ही है, राष्ट्र हित, उद्योग हित, मजदूर हित। भारत के अन्य ट्रेड यूनियनों में राजनीतिक पृष्ठभूमि से जुड़े लोग ऊंचें पदों पर विराजमान है जबकि भारतीय मजदूर संघ विशुद्ध गैर राजनीतिक संगठन है। उनके गीतों में भी भारतीय मजदूर संघ का उदेश्य झलकता है– बीएमएस की क्या पहचान- त्याग, तपस्या और बलिदान। इसी उदेश्य को लेकर भारतीय मजदूर संघ पिछले 66 वर्षों से लगातार देश हित और मजदूर हित में कार्य कर रहा है। उनके इस उदेश्य को लेकर ही भारतीय रेलवे मजदूर संघ और दक्षिण पूर्व रेलवे मजदूर संघ लगातार राष्ट्र हित, उद्योग हित और मजदूर हित में अपना कार्य कर रहे हैं।
इस खास अवसर पर दक्षिण पूर्व रेलवे मजदूर संघ की खड़गपुर कारखाना व ओपन लाइन की इकाइयों द्वारा बीएमएस का झंडा फहराया गया और कर्मचारियों के बीच लड्डू बांटा गया। इस अवसर पर जोनल अध्यक्ष प्रहलाद सिंह, कार्यकारी अध्यक्ष दिलीप कुमार पाल, डिवीजनल समन्वयक हरिहर राव, कारखाना सचिव पी. के. कुंडु, कारखाना सह-सचिव मनीष चंद्र झा, कारखाना सह-सचिव जयंत कुमार, पी. के. पात्रो, कौशिक सरकार, ओम प्रकाश यादव उपस्थित थे। साथ ही साथ यूनियन के अन्य पदाधिकारीगण रत्नाकर साहू, मुकुन्द राव, के. कृष्णामूर्ति, संतोष सिंह, ललित कुमार, श्यामंत, मनोज कुमार यादव, जलज कुमार गुप्ता, उमाशंकर प्रसाद, शंभू शरण सिंह व अन्य मौजूद रहे।


इस अवसर दक्षिण पूर्व रेलवे मजदूर संघ के पदाधिकारियों और कार्यकर्तोओं द्वारा बीएमएस के मूलमंत्रों- त्याग, तपस्या और बलिदान को चरितार्थ करने का प्रण लिया गया।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com