आईआईटी मद्रास ने चिकित्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग का शुभारंभ किया, चिकित्सा विज्ञान और इंजीनियरिंग में चार वर्षीय बी.एस. प्रोग्राम कोर्स भारत में पहली बार होगा शुरू

270
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

IIT Madras launches Department of Medical Sciences & Technology

Ø  The aim of this new initiative is to equip scientists and engineers with the necessary skills to advance medical research

Ø  The Department will integrate medical education and engineering to introduce innovative practices into clinical settings

Ø  The goal is to teach clinicians an engineering approach to the human body and provide engineers with a clinical understanding.

 

CHENNAI, 11th May 2023Indian Institute of Technology Madras (IIT Madras) has launched a Department of Medical Sciences and Technology (https://mst.iitm.ac.in/), which will offer four-year B.S. program in medical sciences and engineering in. This course will be a first-of-its-kind in India.

The Department was launched today (11th May 2023) in the presence of Mr. Lakshmi Narayanan, Co-Founder, Cognizant, Prof. V. Kamakoti, Director, IIT Madras, Medical clinicians on the Steering Committee of the Department and other stakeholders.

The course offers an interdisciplinary approach to prepare students for designing life-saving medical devices, drug discovery, artificial intelligence in medicine, and fundamental medical research. The department will train physicians to effectively apply technology in their clinical practice and lay the foundation for physician-scientists training in India.

Top medical doctors in India and abroad, who were also closely involved in the development of the curriculum, will be ‘Professors of Practice’ in this department, which has already established tie-ups with premier hospitals and medical institutions in India.

Addressing the inaugural function, Mr. Lakshmi Narayanan, Co-Founder, Cognizant, said, “Collaborative research in medical sciences can catapult India to a global leader in clinical outcomes. Our leadership in Space, nuclear, digital and biotechnology has demonstrated our research capability and potential. Extending this capability to Medicine is a natural next step.”

Innovation can be found at the convergence of nanotechnology, biotechnology, chemistry, micro biomes, cognitive science and such other sciences. Investment in such collaborative research and practice is sure to produce outstanding clinical results.”

The goal is to establish an exceptional research facility for medical sciences and technology to develop and train ‘physician-scientists’ and engineering physiologists to become the future leaders in their fields. The new department will conduct both fundamental and applied research programs that connect various medical disciplines.

By providing the necessary resources and platform, IIT Madras hope to enable researchers to create innovative technologies that will improve the lives of patients for generations to come. The Institute also aims to establish an exceptional research facility for medical sciences and technology to develop and train physician-scientists and engineering physiologists to become the future leaders in their fields.

The Institute will also conduct both fundamental and applied research programs that connect various medical disciplines. By providing the necessary resources and platform, we hope to enable our researchers to create innovative technologies that will improve the lives of patients for generations to come.

Addressing the launch event, Prof. V. Kamakoti, Director, IIT Madras, said, “During the COVID outbreak in India, it became evident that we needed to incorporate technology into medicine to effectively handle similar situations in the future as a country. Though we hope such challenges never arise again, this intervention will be crucial in defining our response.”

Prof. V. Kamakoti added, “Our mission is to unite professionals from medicine and technology to create ground-breaking solutions for medical issues that were once unsolvable. Our aim is to improve treatment options and revolutionize healthcare. Continuing our mission of IITM for ALL, we aspire to provide technological interventions in the field of medicine that shall enable quality and affordable Medicare to reach every citizen of our country.”

The Department of Medical Sciences & Technology will offer the following courses:

Ø  BS in Medical Sciences & Engineering (4 Year Programme)

Ø  PhD Programme for Doctors

Advertisement

Ø  MS by Research for Doctors

Ø  MS in Medical Sciences and Engineering

Ø  PhD Programme for Science & Engineering Graduates

Highlighting the unique aspects of this program, Prof. Boby George, Head, Department of Medical Sciences and Technology, IIT Madras, said, “With this interdisciplinary approach to improve the healthcare outcomes by leveraging engineering and medical knowledge, new technologies can be developed that monitor vital parameters of various organs, detects signs of disease, and help to provide targeted prevention and treatment options. As engineering and medicine continue to converge, the possibilities are endless.”

Course Coordinator, Prof. R. Krishna Kumar, Institute Professor, IIT Madras, said“The admission procedure will be through IISER Aptitude Test (IAT). Candidates must have cleared Class XII (or equivalent) examination w ith science stream in 2022 or 2023 from any board recognized by Council of Boards of Department Education in India.”

Advertisement

Further information and updates could be obtained from the Department Website – https://mst.iitm.ac.in/.

Prof. R. Krishna Kumar added, “Imagine you are able to create a digital twin of a patient and try out various treatment options or surgical procedures. Your treatment advice may be a vital input for the treating physician or surgeon and save precious lives. The course will train you to be an important link in the future of clinical practice.”

He further added, “The course structure involves an internship in a hospital to tie theory and practice. The courses in the programme will be taught by both medical and engineering faculty and will provide a strong research base for students.”

The understanding of disease development and the creation of therapies, devices, and technologies are largely driven by physician-scientists, with many historical examples to support this fact. To produce more physician-scientists, our department offers two important programs: MS (by research) and PhD.

 

Recognizing the importance of collaboration between doctors and engineers, we also offer a dual PhD program that encourages the development of devices and data analytics. Clinicians with innovative ideas who register for a doctorate will be paired with engineering PhD students who will focus on the engineering aspects through simulation and bench tests. Together, the doctor and engineer will work on creating a framework to turn the idea into a marketable product. The clinician will also conduct product trials to prepare it for the market.

 

The department is introducing a distinctive program for clinicians called the entrepreneurial doctorate. This program allows doctors to create a product, and the IIT system will provide guidance and support for their entrepreneurial endeavors.

DOCTORS INVOLVED IN THE IIT MADRAS BS PROGRAM

Dr. Ajit S. Mullasari, Director of Cardiology, Institute of Cardio-Vascular Diseases, Madras Medical Mission, said, “This will be a great platform for the passing out graduates to work in hospitals and in departments which are clinical. They will be exposed to a lot of the medical technology, patient care and adapt it to use it for products and licences so that we can build infrastructure in this country for delivering better healthcare.”

Advertisement

Dr. K.R. Balakrishnan, Chairman, Institute of Cardiac Sciences and  Director, Institute of Heart and Lung Transplant and Mechanical Circulatory Support, MGM Healthcare, said, “I am delighted to be a part of the BS program in Medical Sciences and Engineering. This fills a long standing need in the country to bring together the two disciplines for the progress of basic health issues. I wish that the research program results in path breaking work in the field of medical sciences.”

Dr. Karthik Kailash, Professor and Head, Spine Surgery, Sri Ramachandra University, said, “This course is a boon for many, many youngsters who have got aspirations to doing newer and lateral thinking projects. Additionally, this is going to be engineering medicine, which is going to be a key game-changer for youngsters in this part of the world.”

Dr.C.Kesavadas, Deputy Director, Sree Chitra Tirunal Institute for Medical Sciences & Technology, Thiruvananthapuram said, “It is indeed heartening to hear that our country’s prestigious educational institution, IIT Madras, is starting the new teaching program leading to PhD and BS qualifications for creating Physician-scientists. Blending clinical care with biomedical/ laboratory research can be both challenging and stimulating for the professionals who take up this career path. The teaching program and manpower created will promote closer interactions between clinicians, engineers & scientists which in turn can result in a better understanding of disease & its management strategies, drug and medical device development, and finding more affordable solutions for affordable & accessible medical care.  The scientific contribution of a physician-scientist can positively influence the lives of many fellow human beings.”

Dr. Rajan Ravichandran, Director, MIOT Institute of Nephrology, said, “There has been a long-standing need in this country. Engineers and doctors have been in their own worlds and the integration between the two has nearly never happened. This particular course where engineers are going to get exposed to various medical branches and the medical line of thinking, while at the same time, with an engineering mind, will make a great difference. This will be the stepping stone of a new speciality in the country.”

Dr. Rajiv Raman, Senior Consultant and a retinal expert from Sankara Nethralaya said, “This is a unique interdisciplinary course in the country, as in none other course you have a mixture of engineering stream and the doctors stream. Today, we are in the time where technology and medicine have really immersed together. A doctor cannot practice any field of medicine without the use of technology.”

Prof. Sivakumar, of the Manipur Central University, with a decade long experience in medical research at Cleveland Clinic said, “I have not seen such a well-designed program anywhere in the world. The BS program is a well thought out amalgamation of the principles of science, engineering and medicine. The PhD program fills the much needed gap in this country. I am sure the students of these programs will churn out meaningful solutions to difficult clinical problems.”

Dr. Suresh Seshadri, Director, Mediscan Systems, said, “I feel this is a very important course because it is bringing engineering and medicine together. When we see engineers working inside a medical environment, it is going to make a big change in not only creating new talent but innovations are also much more oriented towards the bedside.”

Dr. Venkatraman Sadanand, Associate Professor, Department of Neurosurgery, Loma Linda, U.S., who did his B.Tech (Electrical Engineering) from IIT Madras, said, “Right now, we are in a situation in India where a lot of medical care and clinical medicine using devices and materials have a high cost incurred by taking and borrowing equipment from abroad. These are expensive to buy and maintain and upgrade. That needs to change. We want to progress beyond what we are doing right now and most of the innovations in clinical medicine comes from Engineering. We need the doctor to be able to think what kind of engineering solutions can help clinical medicine and we need engineers to think how they can contribute to the progress of clinical medicine.”

Dr. S. Vijayakumar, Faculty, Narayana Medical College, said, “The department of Medical Science and Technology is the non-fungible token of Indian Institute of Technology Madras (IITM).  As a medical scientist, I envisage bridging the gap between Engineering Technology and Medical Sciences. This is an integrated engineering and medical education twined program which eventually will evolve into designing of health care delivery in a metaverse platform. These medical scientists’ training programs is the state of the art kind and this will be upshot in budding engineering capable doctors.”

Dr. Vijit Cherian, Director, Minimally Invasive Cardiac Surgery and Heart Failure, Madras Medical Mission Hospital, said, “The realm of Cardiology and Cardiac Surgery has made immense strides in the recent few decades. All this has been possible due to the technological advances of Engineering. The time is right now for medicine and engineering to come together and take things to a different level. That is where the BS Program in Medical Sciences and Technology comes in.”

INDUSTRY PERSPECTIVE

Senior Executives from the Medical Devices industry give an industry perspective on the BS Programme in Medical Sciences and Engineering

Mr. Sunil Joshi, Director, Getinge India, said, “When we talk about ‘Make in India’ for the world, we have to develop new products that will give support to new innovative techniques. For this, our young minds have to be equipped with greatest and latest technological advances and they have to have an understanding of the industrial footprint that exists in India.”

Mr. Wilson Thomas, Managing Director, Carl Zeiss India, said, “This is a great step in finding solutions to common problems that which we do not have that often go-to market strategies. There are many medical companies – medical devices, solutions and software – which are operating in India which can absorb these students.”

 

आईआईटी मद्रास ने चिकित्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग का शुभारंभ किया

  • वैज्ञानिकों और इंजीनियरों को चिकित्सा अनुसंधान बढ़ाने का आवश्यक कौशल देने की खास पहल 
  • यह विभाग चिकित्सा शिक्षा और इंजीनियरिंग को आपस में जोड़ कर क्लिनिकल परिवेश में इनोवेटिव कार्य प्रक्रिया शुरू करेगा
  • लक्ष्य चिकित्सकों में मानव शरीर के इंजीनियरिंग दृष्टिकोण का विकास और इंजीनियरों में क्लिनिकल समझ विकसित करना है

 

चेन्नई, 11 मई 2023: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी मद्रास) ने चिकित्सा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (https://mst.iitm.ac.in/) का शुभारंभ किया है। यह चिकित्सा विज्ञान और इंजीनियरिंग में चार वर्षीय बी.एस. प्रोग्राम का संचालन करेगा। यह कोर्स भारत में पहली बार शुरू किया जाएगा।
आज (11 मई 2023) विभाग के उद्घान में कॉग्निजेंट के सहसंस्थापक श्री लक्ष्मी नारायणन, और आईआईटी मद्रास के निदेशक प्रोफेसर वी. कामकोटि, इस विभाग की संचालन समिति के मेडिकल क्लीनिशियंस और अन्य भागीदार मौजूद थे।

यह कोर्स विभिन्न विषयों के परस्पर सहयोग का दृष्टिकोण रखते हुए जीवन रक्षक चिकित्सा उपकरण, दवा की खोज, चिकित्सा में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मौलिक चिकित्सा अनुसंधान के लिए छात्रों को तैयार करेगा। यह विभाग चिकित्सकों के क्लिनिकल कार्यों में टेक्नोलाॅजी के प्रभावी उपयोग करने का प्रशिक्षण देगा और भारत में चिकित्सकवैज्ञानिक प्रशिक्षण की नींव रखेगा।

करिकुलम तैयार करने में भारत और विदेशों के दिग्गज चिकित्सक शामिल रहे हैं जो इस विभाग मेंप्रोफेसर ऑफ प्रैक्टिसकी जिम्मेदारी निभाएंगे। गौरतलब है कि यह विभाग पहले ही भारत के प्रमुख अस्पतालों और चिकित्सा संस्थानों से इस संबंध में सहयोग करार कर चुका है।

कॉग्निजेंट के सहसंस्थापक श्री लक्ष्मी नारायणन ने अपने उद्घाटन संबोधन में कहा,चिकित्सा विज्ञान में परस्पर सहयोग से अनुसंधान शुरू होने से भारत क्लिनिकल चिकित्सा के बेहतर परिणाम देने में दुनिया में अव्वल सकता है। अंतरिक्ष विज्ञान, परमाणु विज्ञान, डिजिटल और जैव प्रौद्योगिकी में हम ने अनुसंधान क्षमता और इसकी बढ़ती संभावना का प्रदर्शन किया है। ऐसे में मेडिसिन में इस क्षमता का विस्तार करना सहज ही अगला कदम है।’’

इस अनोखी पहल का लक्ष्य एक अभूतपूर्व चिकित्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी शोध केंद्र बनाना है ताकिचिकित्सकवैज्ञानिकऔरइंजीनियरचिकित्सकतैयार और प्रशिक्षित कर उन्हें उनके कार्य क्षेत्रों में भावी लीडर बनाया जाए। नया विभाग विभिन्न चिकित्सा विषयों को जोड़ने वाले मौलिक और व्यावहारिक अनुसंधान दोनों कार्यक्रमों का संचालन करेगा।

आईआईटी मद्रास आवश्यक संसाधन और प्लैटफार्म दे कर यह उम्मीद रखता है कि शोधकर्ता इनोवेटिव टेक्नोलाॅजी विकसित करेंगे जो आने वाली पीढ़ियों के मरीजों को एक बेहतर जिन्दगी देगी। संस्थान का एक उद्देश्य यह भी है कि एक विशिष्ट चिकित्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी शोध केंद्र स्थापित कर चिकित्सकवैज्ञानिक और इंजीनियरचिकित्सक तैयार और प्रशिक्षित करे जो आने वाले समय में अपने कार्य क्षेत्रों की बागडोर संभाले।
संस्थान चिकित्सा के विभिन्न विषयों को जोड़ने वाले मौलिक और व्यावहारिक अनुसंधान कार्यक्रमों का भी संचालन करेगा। यह आवश्यक संसाधन और प्लैटफाॅर्म प्रदान करते हुए इसके प्रति आश्वस्त है कि शोधकर्ता आने वाली पीढ़ियों के लिए मरीजों को बेहतर जिन्दगी देने में सक्षम इनोवेटिव टेक्नोलाॅजी का विकास कर पाएंगे।

शुभारंभ समारोह के अपने संबोधन में आईआईटी मद्रास के निदेशक प्रोफेसर वी. कामकोटि ने कहा,कोविड काल में हम ने साफ तौर पर यह महसूस किया कि देश के अंदर भविष्य में ऐसे संकट से निकलने के लिए चिकित्सा विज्ञान में प्रौद्योगिकी को समावेश आवश्यक है। हालांकि हम तो यही कामना करते हैं कि ऐसी चुनौतियां फिर कभी नहीं आएं। लेकिन हमारी यह पहल ऐसे मामलों से निपटने में अहम भूमिका निभाएगी।’’

प्रो. वी. कामकोटि ने कहा,हम चिकित्सा और प्रौद्योगिकी क्षेत्र के प्रोफेशनलों को एकजुट करने के मिशन पर हैं जिसका मसकद अब तक अनसुलझे चिकित्सा मुद्दों का अभूतपूर्व समाधान देना है। हम उपचार के बेहतर विकल्प सुधार और स्वास्थ्य सेवा में नए दौर की शुरुआत करना चाहते हैं।आईआईटीएम फाॅर आॅल’ – अपने इस मिशन को आगे बढ़ाते हुए हमारा इरादा चिकित्सा जगत में तकनीकी ताकत बढ़ाना है ताकि देश के प्रत्येक नागरिक तक गुणवत्तापूर्ण और सस्ती चिकित्सा सेवा पहुंचे।’’

चिकित्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के कोर्स:

  • चिकित्सा विज्ञान और इंजीनियरिंग में बी.एस. (4 वर्षीय प्रोग्राम)
  • डॉक्टरों के लिए पीएचडी प्रोग्राम
  • डॉक्टर्स के लिए रिसर्च से एम.एस
  • चिकित्सा विज्ञान और इंजीनियरिंग में एम.एस.
  • विज्ञान और इंजीनियरिंग ग्रैजुएटों के लिए पीएचडी प्रोग्राम

प्रोग्राम के कई विशिष्ट पहलुओं की जानकारी देते हुए प्रो. बॉबी जॉर्ज, प्रमुख, चिकित्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, आईआईटी मद्रास ने कहा, ‘‘इंजीनियरिंग और चिकित्सा ज्ञान के तालमेल से बेहतर स्वास्थ्य सेवा के इस दृष्टिकोण में विभिन्न विषयों को परस्पर जोड़ने का लक्ष्य है। इससे नई तकनीकों का विकास होगा जो कि विभिन्न अंगों के वाइटल पैरामीटर्स पर निगरानी रखेंगी, बीमारी के संकेतों को समझेंगी और लक्ष्य बना कर उनकी रोकथाम और उपचार के विकल्प देंगी। इंजीनियरिंग और मेडिसिन के इस मेल से असीम संभावनाएं सामने आएंगी।’’

कोर्स कोर्डिनेटर प्रोफेसर आर. कृष्ण कुमार, इंस्टीट्यूट प्रोफेसर, आईआईटी मद्रास ने कहा, ‘‘कोर्स में प्रवेश आईआईएसईआर एप्टीट्यूड टेस्ट (आईएटी) के माध्यम से होगा। उम्मीदवार का भारत के शिक्षा विभाग के काउंसिल ऑफ बोर्ड ऑफ से मान्यता प्राप्त किसी भी बोर्ड से 2022 या 2023 में विज्ञान स्ट्रीम के साथ बारहवीं कक्षा (या समकक्ष) परीक्षा उत्तीर्ण होना अनिवार्य है।“

अधिक जानकारी और अपडेट विभाग की वेबसाइटhttps://mst.iitm.ac.in से प्राप्त कर सकते हैं।

प्रो. आर. कृष्ण कुमार ने कहा, ‘‘यह कल्पना कीजिए कि आप ने किसी मरीज का डिजिटल ट्विन बना लिया और अब उस पर उपचार के विभिन्न विकल्पों या शल्य प्रक्रियाओं का परीक्षण कर सकते हैं। इस आधार पर आप उपचार की जो सलाह देंगे वह मरीज के चिकित्सक या सर्जन के लिए अहम जानकारी होगी और इस तरह एक अनमोल जीवन बच सकता है। यह कोर्स आने वाले समय में क्लिनिकल प्रैक्टिस की एक महत्वपूर्ण कड़ी बनने का प्रशिक्षण देगा।’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘कोर्स के तहत अस्पताल में इंटर्नशिप भी होगी ताकि प्रशिक्षु सिद्धांत और व्यवहार को आपस में जोड़ कर सीखें। इस प्रोग्राम के तहत उपलब्ध कोर्सों में चिकित्सा और इंजीनियरिंग फैकल्टी दोनों पढ़ाएंगे और छात्रों को शोध अध्ययन का मजबूत आधार प्रदान करेंगे।’’

रोग कैसे पैदा होते और बढ़ते हैं इसकी समझ और उनके उपचारों, उपकरणों और टेक्नोलाॅजी के विकास में मोटे तौर पर चिकित्सकवैज्ञानिकों का योगदान होता है। अधिक संख्या में चिकित्सकवैज्ञानिक तैयार करने के लिए हमारे विभाग के दो महत्वपूर्ण प्रोग्राम हैं: एमएस (अनुसंधान द्वारा) और पीएचडी।


डॉक्टरों और इंजीनियरों के बीच परस्पर सहयोग की अहमियत समझते हुए एक डुअल पीएचडी प्रोग्राम भी शुरू किया गया है जो विभिन्न उपकरणों के विकास और डेटा एनालिटिक्स को बढ़ावा देगा। क्लिनिशियन जिनके पास इनोवेटिव आइडियाज़ हैं वे डॉक्टरेट के लिए पंजीकरण करा सकते हैं। उनकी जोड़ी इंजीनियरिंग पीएचडी छात्रों के साथ बनाई जाएगी जो सिमुलेशन और बेंच टेस्ट के माध्यम से इंजीनियरिंग पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करेंगे। डॉक्टर और इंजीनियर मिल कर ऐसे आइडिया से बाजार में बिक्री योग्य प्रोडक्ट बनाने का फ्रेमवर्क देंगे। क्लिनिशियन प्रोडक्ट ट्रायल कर इसे बाजार के लिए तैयार कर पाएंगे।

चिकित्सकों के लिए इस विभाग में उद्यमशीलता डॉक्टरेट नामक एक विशिष्ट प्रोग्राम शुरू हो रहा है। इसमें डॉक्टर एक प्रोडक्ट तैयार करेंगे और आईआईटी उनके उद्यमी बनने के इस प्रयास में मार्गदर्शन और सहायता प्रदान करेगा।

आईआईटी मद्रास के बीएस प्रोग्राम में योगदान देने वाले डॉक्टर

डॉ. अजीत एस. मुल्लासारी, निदेशक, कार्डियोलॉजी, इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोवैस्कुलर डिजीज, मद्रास मेडिकल मिशन ने कहा,इस विभाग से पढ़ाई पूरी करने के बाद छात्रों को विभिन्न अस्पतालों और क्लीनिकल विभागों में काम करने का सुनहरा अवसर मिलेगा। उन्हें कई चिकित्सा प्रौद्योगिकियों, मरीज के उपचार का व्यावहारिक ज्ञान होगा और वे इसे प्रोडक्ट के अनुकूल बनाने और लाइसेंस के लिए इसका लाभ ले पाएंगे। इस तरह हम देश में बेहतर स्वास्थ्य सेवा की मजबूत बुनियादी व्यवस्था का विकास कर पाएंगे।’’

डॉ. के.आर. बालाकृष्णन, चेयरमैन, इंस्टीट्यूट आॅफ कार्डियक साइंसेज और निदेशक, इंस्टीट्यूट ऑफ हार्ट एंड लंग ट्रांसप्लांट एवं मैकेनिकल सर्कुलेटरी सपोर्ट, एमजीएम हेल्थकेयर ने कहा,चिकित्सा विज्ञान और इंजीनियरिंग में बीएस प्रोग्राम का हिस्सा बनने की मुझे बहुत खुशी है। बुनियादी स्वास्थ्य सेवाओं में प्रगति के लिए इन दो विषयों को एकजुट करने की देश में लंबे समय से अत्यावश्यकता थी जो अब पूरी हुई। मेरी कामना है कि इस रिसर्च प्रोग्राम के परिणामस्वरूप चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में अभूतपूर्व शोध कार्य किए जाएं।’’

डॉ. कार्तिक कैलाश, प्रोफेसर और हेड, स्पाइन सर्जरी, श्री रामचंद्र यूनिवर्सिटी ने कहा,आज बहुतसे युवा नई और लैटरल सोच के प्रोजेक्ट करना चाहते हैं। यह कोर्स उनके लिए वरदान है। इतना ही नहीं इससे इंजीनियरिंग मेडिसिन की शुरुआत होगी जो भारत जैसे देशों के युवाओं के लिए एक गेमचेंजर होने जा रहा है।’’

डॉ. सी. केशवदास, उप निदेशक, श्री चित्रा तिरुनल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी, तिरुवनंतपुरम ने कहा,देश का प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थान आईआईटी मद्रास चिकित्सकवैज्ञानिक तैयार करने के लक्ष्य से पीएचडी और बीएस की योग्यता प्रदान करने वाले नए प्रोग्राम शुरू कर रहा है यह सुनकर बहुत खुशी हुई। बायोमेडिकल/प्रयोगशाला अनुसंधान के साथ क्लिनिकल चिकित्सा का यह मेल इस क्षेत्र में करियर बनाने के इच्छुक लोगों के लिए चुनौतीपूर्ण और प्रेरक दोनों हो सकता है। यह प्रोग्राम और इससे तैयार मानव संसाधन चिकित्सकों, इंजीनियरों और वैज्ञानिकों के बीच घनिष्ठ संबंध को बढ़ावा देगा जिसके परिणामस्वरूप बीमारी और इसके उपचार की रणनीतियों, दवा और चिकित्सा उपकरण विकसित करने की बेहतर समझ होगी। साथ ही, अधिक सस्ते और सुलभ समाधान मिलेंगे जिनकी मदद से इलाज काफी किफायती हो जाएगा। चिकित्सकवैज्ञानिक का वैज्ञानिक योगदान बहुतसे लोगों की जिन्दगी बेहतर बना सकता है।’’

डॉ. राजन रविचंद्रन, निदेशक, एमआईओटी इंस्टीट्यूट ऑफ नेफ्रोलॉजी ने कहा, ‘‘इंजीनियर और डॉक्टर अपनीअपनी दुनिया में व्यस्त रहे हैं और दोनों के बीच तालमेल लगभग कभी नहीं हो पाया। हालांकि देश में लंबे समय से इसकी जरूरत रही है। इस कोर्स में इंजीनियर चिकित्सा विज्ञान की विभिन्न शाखाओं और चिकित्सक की सोच से अवगत होंगे और इंजीनियरिंग की सोच से बड़ा बदलाव लाएंगे। यह देश में एक नई विशेषता की ओर पहला कदम होगा।’’

डॉ. राजीव रमन, वरिष्ठ सलाहकार और रेटिना विशेषज्ञ, शंकर नेत्रालय ने कहा,यह विभिन्न विषयों को परस्पर जोड़ कर शुरू किया गया देश का एक यूनिक प्रोग्राम है। अन्य किसी प्रोग्राम में इंजीनियरिंग और चिकित्सा विज्ञान का ऐसा मिश्रण नहीं है। आज के दौर में प्रौद्योगिकी और चिकित्सा में सही मायनों में बेजोड़ तालमेल हो गया है। कोई डॉक्टर बिना तकनीक किसी विधा की चिकित्सा नहीं कर सकता है।’’

मणिपुर केंद्रीय विश्वविद्यालय से जुड़े और क्लीवलैंड क्लिनिक में एक दशक चिकित्सा अनुसंधान के अनुभवी प्रोफेसर शिवकुमार ने कहा, ‘‘मैंने दुनिया में कहीं भी इतना अच्छा डिजाइन किया गया प्रोग्राम नहीं देखा है। बीएस प्रोग्राम में विज्ञान, इंजीनियरिंग और चिकित्सा सिद्धांतों का एक सुविचारित मेल दिखता है। इस पीएचडी प्रोग्राम से देश की एक बड़ी जरूरत पूरी होगी जिसका लंबे समय से इंतजार था। मुझे विश्वास है कि ये प्रोग्राम छात्रों के कठिन क्लिनिकल समस्याओं सार्थक समाधान देंगे।

मेडिस्कैन सिस्टम्स के निदेशक डॉ. सुरेश शेषाद्री ने कहा, ‘‘मैं इसे बहुत ही महत्वपूर्ण कोर्स मानता हूं क्योंकि इसमें इंजीनियरिंग और चिकित्सा विज्ञान को एक साथ पढ़ाया जा रहा है। इंजीनियर जब चिकित्सा विज्ञान के परिवेश में काम करेंगे तो इससे केवल नई प्रतिभाएं विकसित होंगी बल्कि इनोवेशन का मरीजों को लाभ पहुंचेगा।’’

 

आईआईटी मद्रास से बी.टेक (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग) करने वाले डॉ. वेंकटरमन सदानंद, एसोसिएट प्रोफेसर, न्यूरोसर्जरी विभाग, लोमा लिंडा, अमेरिका ने कहा,भारत में बहुतसी चिकित्सा सेवाओं और क्लिनिकल मेडिसीन उपयोग करने वाले उपकरणों और सामग्रियों पर बहुत खर्च होता है क्योंकि वे विदेश से आते हैं। इन्हें खरीदना और मेंटेन और अपग्रेड करना महंगा पडता है। इस स्थिति में बड़े बदलाव का समय गया है। हम कामकाज के मौजूदा दायरे से आगे बढ़ना चाहते हैं और यह जानते हैं कि क्लिनिकल चिकित्सा में अधिकतर इनोवेशन इंजीनियरिंग के होते हैं। आज जरूरत है कि डॉक्टर यह मंथन करें कि किस तरह के इंजीनियरिंग समाधान से क्लिनिकल चिकित्सा में मदद मिलेगी। इसी तरह इंजीनियरों को यह सोचना है कि क्लिनिकल चिकित्सा की प्रगति में वे कैसे योगदान दे सकते हैं।’’

डॉ. एस. विजयकुमार, फैकल्टी, नारायण मेडिकल कॉलेज ने कहा,चिकित्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग स्थापित करना भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटीएम) का अद्भुत प्रयास है। बतौर चिकित्सा वैज्ञानिक मैं देख सकता हूं कि इंजीनियरिंग प्रौद्योगिकी और चिकित्सा विज्ञान के बीच का फासला मिटने वाला है। यह इंजीनियरिंग और चिकित्सा शिक्षा का आपस में अभिन्न प्रोग्राम है जो कालांतर में एक मेटावर्स प्लेटफॉर्म पर स्वास्थ्य सेवा डिज़ाइन करने में सफल होगा। इन चिकित्सा वैज्ञानिकों का प्रशिक्षण कार्यक्रम अत्याधुनिक है और यह इंजीनियरिंग में सक्षम डॉक्टरों के लिए काफी उत्साहवर्धक है।’’

डॉ. विजित चेरियन, निदेशक, मिनिमली इनवेसिव कार्डियक सर्जरी एंड हार्ट फेलियर, मद्रास मेडिकल मिशन हॉस्पिटल ने कहा,कार्डियोलॉजी और कार्डियक सर्जरी में हाल के कुछ दशकों में काफी प्रगति हुई है। यह इंजीनियरिंग में टेक्नोलाॅजी की प्रगति से संभव हुआ है। चिकित्सा विज्ञान और इंजीनियरिंग के एक साथ आने और कामकाज को एक नए स्तर पर ले जाने का अवसर गया है। इसमें चिकित्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी में बी एस प्रोग्राम की अहम भूमिका दिख रही है।

इस पर उद्योग जगत का नजरिया

चिकित्सा उपकरण उद्योग के वरिष्ठ अधिकारियों का चिकित्सा विज्ञान और इंजीनियरिंग में बीएस प्रोग्राम को लेकर नजरिया बहुत उत्साहवर्धक रहा है:


गेटिंग इंडिया के निदेशक श्री सुनील जोशी ने कहा,हम दुनिया के लिएमेक इन इंडियाके दौर में पहुंच गए हैं जहां हमें नए उत्पाद विकसित करने होंगे जो इनोवेटिव तकनीकों को सपोर्ट करने में सक्षम हों। इसके लिए युवा प्रतिभाओं को सर्वश्रेष्ठ और नवीनतम तकनीकी प्रगति का लाभ देना होगा और उन्हें भारत के वर्तमान औद्योगिक विस्तार की समझ भी चाहिए।’’

कार्ल जीस इंडिया के प्रबंध निदेशक श्री विल्सन थॉमस ने कहा,कई ऐसी सामान्य समस्याएं होती हैं जिनके समाधान के लिए हम अक्सर बाजार का रुख नहीं कर सकते हैं। यह पहल ऐसी समस्याओं के निदान की ओर बड़ा कदम है। कई मेडिकल कंपनियां जो चिकित्सा उपकरण, साॅल्यूशन और सॉफ्टवेयर से जुड़े काम भारत में कर रही हैं इन छात्रों को बेहतर करियर दे सकती हैं।’’

 

 

 

Advertisement
Advertisement

For Sending News, Photos & Any Queries Contact Us by Mobile or Whatsapp - 9434243363 //  Email us - raghusahu0gmail.com